Aara-Sasaram passenger train derailed - आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन बेपटरी, इंजन और एक बोगी पटरी से उतरी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन बेपटरी, इंजन और एक बोगी पटरी से उतरी

आरा रेलवे स्टेशन पर शुक्रवार की तड़के सुबह आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन हादसे की शिकार हो गयी। इस दौरान ट्रेन का इंजन व दिव्यांग बोगी के साथ पटरी से उतर गया। यह हादसा सुबह करीब पौने तीन बजे तीन नंबर प्लेटफॉर्म के पश्चिमी छोर पर हुआ। इससे स्टेशन व यात्रियों में अफरातफरी मच गयी। हालांकि इस हादसे में किसी के जख्मी होने की सूचना नहीं है। वहीं हादसे की सूचना से रेल प्रशासन में हड़कंप मच गया।

रेल प्रशासन तत्काल हरकत में आया और ट्रेन को दुरुस्त करने का काम शुरू कर दिया गया। बाद में दानापुर से भी एआरटी के साथ टीम पहुंची। घंटों मशक्कत के बाद ट्रेन को पटरी पर लाया गया। इस कारण काफी देर तक ट्रेनों का परिचलान बाधित रहा। इस दौरान अप लाइन पर पंजाब मेल, महानंदा व हावड़ा-अमृतसर एक्स. सहित कुछ ट्रेनों को मेमो देकर चलाया गया। हादसे के लिए ट्रेन के ड्राइवर को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। इधर, रेल प्रशासन पूरे मामले की जांच में जुट गया है। इसके लिए रेलवे के वरीय अफसर आरा पहुंच गये हैं। स्टेशन मैनेजर बीके पांडेय ने बताया कि सुबह करीब 2.50 बजे हादसा हुआ।  इसमें किसी तरह की क्षति नहीं हुई है। ट्रेन के ड्राइवर की लापरवाही सामने आ रही है। मामले की जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जायेगी।

सिगनल नहीं होने के बाद भी ड्राइवर ने दौड़ा दी ट्रेन 

आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन के बेपटरी होने में ड्राइवर की बड़ी चूक सामने आयी है। ड्राइवर ने बिना सिगनल के ही ट्रेन दौड़ा दी। इसके तुरंत बाद ही ट्रेन डिरेल हो गयी। बताया जाता है कि आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन का सुबह पौने तीन बजे आरा से खुलने का समय है। इसके लिए ट्रेन शुक्रवार की रात करीब डेढ़ बजे आरा पहुंच गयी थी। उस समय ट्रेन तीन नंबर प्लेटफॉर्म के अप में दो नंबर लूप पर खड़ी थी। करीब 2.50 में अप में एक मालगाड़ी थ्रू पास कर रही थी। उस ट्रेन को सिगनल को देखकर ही आरा-सासाराम पैसेंजर ट्रेन का ड्राइवर गाड़ी लेकर चल पड़ा। बिना सिगनल के ट्रेन के खुल जाने से रेल प्रशासन में अफरातफरी मच गयी। स्टेशन मैनेजर द्वारा तत्काल वॉकी-टाकी से ड्राइवर को इसकी सूचना दी गयी। तबतक ट्रेन का इंजन व एक बोगी पटरी से उतर चुका था। स्टेशन मैनेजर द्वारा ड्राइवर की इस लापरवाही की पुष्टि की गयी है।

कम थी ट्रेन की रफ्तार, वरना हो जाता बड़ा हादसा

हादसे के समय ट्रेन की रफ्तार काफी कम थी। ट्रेन में यात्रियों की संख्या भी काफी कम थी। इससे एक बड़ा ट्रेन हादसा टल गया। वरना आरा स्टेशन शुक्रवार की सुबह एक बड़े हादसे का गवाह बन जाता। बताया जाता है कि सिगनल नहीं होने के कारण अधिकतर यात्री प्लेटफॉर्म पर घूम रहे थे। ट्रेन की पीछे वाली बोगी में कुछ यात्री ही सवार थे। इसी बीच पैसेंजर ट्रेन अचानक चल पड़ी। इससे ट्रेन के यात्रियों में अफरातफरी मच गयी। कुछ यात्रियों ने ट्रेन पकड़ने के लिए दौड़ भी लगानी शुरू कर दी। उस समय ट्रेन की रफ्तार काफी कम थी। ट्रेन धीरे-धीरे आगे बढ़ रही थी। ट्रेन अभी तीन नंबर प्लेटफॉर्म के पश्चिमी छोर पर पहुंची थी, तभी इंजन व एक बोगी पटरी से उतर गये। यात्रियों की मानें तो ट्रेन की रफ्तार तेज होती तो काफी क्षति होती।

घंटों लेट से खुली आरा-सासाराम पैसेंजर गाड़ी 

हादसे के कारण आरा- सासाराम पैसेंजर ट्रेन घंटों आरा में खड़ी रही। ट्रेन को दिन के 11:00 बजे आरा से रवाना किया गया। पटरी क्षतिग्रस्त होने के कारण प्लेटफॉर्म नंबर तीन से हटा कर दो नंबर प्लेटफार्म पर लाकर खड़ा कर दिया गया। इसके बाद इंजन की पूरी तरह जांच करने के बाद ट्रेन को भेजा गया। वहीं आरा स्टेशन पर आने वाली कुछ ट्रेनों को करीब दो घंटे तक मेमो के सहारे मेन लाइन से निकाला गया।

ट्रेन का दोनों पहिया पटरी से उतरी

हादसे के दौरान ट्रेन के इंजन का अगला व पिछला पहिया ट्रैक से नीचे उतर गये थे। इसे देख ड्राइवर ने तुरंत ट्रेन को रोक दिया और वरीय अधिकारियों को इसकी सूचना दी। इसके बाद मौके पर पहुंची टीम की आठ घंटे के प्रयास के बाद परिचालन शुरू हुआ। इस दौरान स्टेशन पर अफरातफरी का माहौल बना रहा। वहीं इंजन के पटरी से उतरते ही लोको पायलट और शंटिंग मैन के होश उड़ गए। आनन-फानन में स्टेशन मास्टर को सूचना दी गई। इसके बाद कंट्रोल को मैसेज जारी किया गया। 

दानापुर के रेल अधिकारी भी मौके पर पहुंचे

कंट्रोल के मैसेज पर दानापुर से एक्सीडेंटल रिलीफ ट्रेन आरा भेजी गयी। सीनियर डीएमई, एईएन, सीपीओ, टीआई, सीएलआई, सीपीयू, एसएससी सिंग्नल, पीडब्लूआई, टीआई आरा, एसई आरा समेत कई स्थानीय अधिकारी व कर्मचारियों की मदद से इंजन को वापस पटरी पर रखा गया। इसके बाद ट्रैक की मरम्मत का शुरू हुआ। सुबह लगभग 11 बजे अधिकारियों और कर्मचारियों ने राहत की सांस ली। आरा जंक्शन पर रिलीफ कैंप से आए सभी अधिकारियों ने एक बिंदु पर जांच किया।सूत्रों के अनुसार हादसे के कारण 26 स्लीपर क्षतिग्रस्त हो गए।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Aara-Sasaram passenger train derailed