DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लोकसभा चुनाव: दिल्ली की 7 सीटों पर जीत के लिए AAP ने बनाई ये 'रणनीति'

AAP की ओर से कोमल हुपेण्डी होंगे मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार

लोकसभा चुनाव (Lok Sabha Election) की तैयारियों में जुटी आम आदमी पार्टी (Aam Adami Party) दिल्ली की सीटों पर जीत हासिल करने के लिए रणनीति बनाने में जुटी है। पार्टी ने तय किया है कि प्रत्येक दस घर पर एक विजय प्रमुख बनाएं जाएंगे। वहीं, हर विधानसभा क्षेत्र में सभी पदाधिकारियों को एक-एक बूथ की जिम्मेदारी दी जाएगी।

चुनावों की तैयारी का जायजा लेने के लिए आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल खुद लोकसभा वार कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे हैं। इसकी शुरुआत गुरुवार को दक्षिणी दिल्ली लोकसभा के कार्यकर्ताओं के साथ हुई, जो कि देर रात तक चली। शुक्रवार को पूर्वी दिल्ली संसदीय सीट की लोकसभा प्रभारी आतिशी के समेत कार्यकर्ताओं के साथ अरविंद केजरीवाल की बैठक खबर लिखे जाने तक जारी थी।

SP-BSP गठबंधन: कांशीराम व मुलायम में भी उपचुनाव से हुई थी दोस्ती

अरविंद केजरीवाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा है कि यह आम आदमी पार्टी का दायित्व है कि वह दिल्ली के सभी सात सीटों पर भाजपा को हराए। हम जब सत्ता में आए तो अधिकारी से लेकर कर्मचारी सभी डरते थे। मगर भाजपा ने एक-एक करके हमसे सभी अधिकार छीन लिए। यही नहीं हमारे काम में रुकावटें भी पैदा की। इसके बाद भी हमने शिक्षा स्वास्थ्य में जो काम किया है वह किसी से छुपा हुआ नहीं है। उसकी चर्चा देश में ही नहीं विदेशों में भी हो रही है। 

लोकसभा चुनाव:एक बार फिर इस नारे के साथ BJP ने किया मिशन 2019 का शंखनाद

दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने बताया कि पार्टी हर दस घर पर एक विजय प्रमुख की नियुक्ति करेगी। इन विजय प्रमुखों की जिम्मेदारी होगी कि वह उन दस घरों के मतदाताओं से मिले और उन्हें पूरा समीकरण समझाएं। उन्हें उन दस घरों का वोट ‘आप' को ही दिलवाना होगा।

यूपी में हमारी उपेक्षा करना होगी ‘खतरनाक भूल’: कांग्रेस

केजरीवाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा है कि वह डोर टू डोर अभियान में समझदारी से काम करें। जनता के बीच जाकर उन्हें समझाना होगा। उन्होंने कहा कि 2014 की लोकसभा चुनाव में भाजपा को 46 फीसदी, आप को 33 फीसदी और कांग्रेस को 15 फीसदी वोट मिले थे। मगर अब हमारा सर्वे कहता है कि भाजपा को 10 फीसदी वोट मिलेंगे। उन्होंने कहा कि हमे जनता को समझाना होगा की कांग्रेस को वोट देने का मतलब है भाजपा को जिताना।

 

26 साल बाद होगी सपा-बसपा में दोस्ती, पश्चिम में बदलेगी सियासी तस्वीर

केजरीवाल ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा है कि वह डोर टू डोर अभियान में समझदारी से काम करें। जनता के बीच जाकर उन्हें समझाना होगा। उन्होंने कहा कि 2014 की लोकसभा चुनाव में भाजपा को 46 फीसदी, आप को 33 फीसदी और कांग्रेस को 15 फीसदी वोट मिले थे। मगर अब हमारा सर्वे कहता है कि भाजपा को 10 फीसदी वोट मिलेंगे। उन्होंने कहा कि हमे जनता को समझाना होगा की कांग्रेस को वोट देने का मतलब है भाजपा को जिताना।.
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:AAP strategy to win 7 Lok Sabha seats in Delhi on 2019 lok sabha election