A high-level meeting is underway at Ministry of Home Affairs Amit Shah Ajit Doval and Intelligence officials present in the Meeting - गृहमंत्रालय में एक हाई लेवल मीटिंग, अमित शाह कर रहे हैं अध्यक्षता, जानें कौन-कौन हुआ शामिल DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गृहमंत्रालय में एक हाई लेवल मीटिंग, अमित शाह कर रहे हैं अध्यक्षता, जानें कौन-कौन हुआ शामिल

a meeting on  prevention of sexual harassment at workplace  is underway at ministry of home affairs

दिल्ली में गृह मंत्रालय में अमित शाह ने सोमवार को दूसरी उच्चस्तरीय बैठक ले रहे हैं। पहली हाईलेवल मीटिंग में गृहमंत्री अमित शाह के साथ राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (NSA) अजित डोभाल, गृह सचिव ए.के. भल्ला तथा खुफिया एजेंसियों के अधिकारी शामिल थे। यह बैठक खत्म हो गई है।

दूसरी बैठक गृह मंत्रालय में 'कार्यस्थल पर यौन उत्पीड़न की रोकथाम' को लेकर चल रही है। गृह मंत्री अमित शाह बैठक की अध्यक्षता कर रहे हैं। इस बैठक में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल और महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी मौजूद हैं।

 

जम्मू-कश्मीर में स्थिति अभी भी पूरी तरह से सामान्य नहीं हैं तथा लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि रविवार को घाटी के किसी भी इलाके में कर्फ्यू नहीं लगाया गया है और शनिवार रात को घाटी में अधिकतर जगहों पर हालात शांतिपूर्ण रहे। हालांकि कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए घाटी के कईं इलाकों में चार से अधिक लोगों के एक साथ एकत्र होने से रोकने के लिए प्रशासन ने धारा 144 लगा रखी है। 

ऐतिहासिक जामिया मस्जिद के सभी दरवाजे पांच अगस्त से ही बंद है और यहां किसी भी तरह के प्रदर्शन को रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों की तैनाती की गयी है। प्राप्त जानकारी के अनुसार उत्तर कश्मीर के बारामूला से बड़गाम, श्रीनगर और अनंतनाग के रास्ते जम्मू क्षेत्र के बनिहाल के बीच चलने वाली रेल सेवाएं 5 अगस्त से ही स्थगित है। दूरसंचार के साधन लैंडलाइन फोन, इंटरनेट और मोबाइल फोन सेवा के बहाल नहीं होने से लोगों को एक दूसरे से संपर्क बनाने में खासी दिक्कतें आ रही हैं। पिछले सप्ताह हालांकि घाटी में लैंडलाइन सेवाएं बहाल कर दी गयी है। 

इसके अलावा शिक्षण संस्थान सबसे ज्यादा प्रभावित है और पढ़ाई फिर शुरू करने के फैसले के बाद भी छात्र विद्यालय से दूरी बनाए हुए हैं जबकि शिक्षक और अन्य कर्मचारी अपने काम पर समय से आ रहे है। केंद्र सरकार ने पांच अगस्त को जम्मू-कश्मीर का विशेष राज्य का दजार् खत्म कर इसे दो केंद्र शासित प्रदेशों जम्मू- कश्मीर और लद्दाख में विभाजित करने का ऐलान किया था। ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर में कारोबारी प्रतिष्ठान और दुकानें बंद हैं। सड़कों पर वाहन नजर नहीं आये हालांकि निजी वाहनों का आवगमन जारी है। 

श्रीनगर का मशहूर रविवार बाज़ार भी हड़ताल के आह्वान के कारण बंद रहा लेकिन कई विक्रेताओं ने सड़कों पर स्टाल लगाए मगर कोई भी ग्राहक सामान लेने नहीं आया।  कश्मीर घाटी में अन्य जगहों पर जनजीवन  प्रभावित रहा और दुकानें और व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद है।

अनंतनाग से मिली एक रिपोर्ट के अनुसार दक्षिण कश्मीर के कुलगाम, पुलवामा और शोपियां जिले में सभी कारोबारी प्रतिष्ठान तथा दुकानें बंद हैं। मध्य कश्मीर के गंदेरबल , बडगाम, सोपोर, पाटन, पलहान, बांदीपोरा, अजस तथा उत्तर कश्मीर की झेलम नदी और उसके आस पास के अन्य इलाकों में भी यही  स्थिति है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A high-level meeting is underway at Ministry of Home Affairs Amit Shah Ajit Doval and Intelligence officials present in the Meeting