DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

माउंट मकालू फतह कर लौट रहे सेना के जवान की मृत्यु

थल सेना की पर्वतारोही टीम के एक सदस्य की माउंट मकालू से उतरते समय मृत्यु हो गई। 18 सदस्यीय टीम ने पहली बार 16 मई को सफलतापूर्वक माउंट मकालू पर पहुंचने में सफलता हासिल की थी। लेकिन जब टीम वापस लौट रही थी तो पहले शिविर (शिविर नंबर-4) के करीब पहुंचने से पूर्व ही जवान की मृत्यु हो गई। सिंह उत्तराखंड के पिथौड़ागढ़ जिले के मूल निवासी थे।

सेना के सूत्रों ने बताया कि अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि जवान की मृत्यु हादसे की वजह से हुई या पर्वतारोहण के दौरान उत्पन्न होने वाली चिकित्सकीय समस्याओं के चलते। उन्होंने कहा कि दल से शुक्रवार को संपर्क हुआ तो इस दुखद घटना की खबर मिली। दल नीचे उतर रहा है। दल को अभी देश में पहुंचने में कम से कम 15 दिनों का समय लग सकता है। दल को सहायता पहुंचाने के प्रयास किए जा रहे हैं ताकि शव को लाया जा सके।

सेना के अनुसार दुनिया की ऊंची पर्वत चोटियों में शुमार माउंट मकालू (8485 मीटर) को टीम ने सफलतापूर्वक फतह किया था। यह सेना की बड़ी उपलब्धि है क्योंकि पहली बार उसे यह सफलता मिली है। सेना ने कहा कि नायक नारायण सिंह एक सफल पर्वतारोही था तथा पिछले साल उसने माउंट कामेट को भी फतह किया था। मूलत उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले का निवासी नारायण 2002 में सेना में भर्ती हुआ था। उसके परिवार में पत्नी के अलावा तीन छोटे-छोटे बच्चे भी हैं।

बता दें कि माउंट मकालू हालांकि माउंट एवरेस्ट से थोड़ी कम ऊंची चोटी है। लेकिन यह दुनिया की सर्वाधिक खतरनाक चोटियों में गिनी जाती है। लेकिन भारतीय सेना ऐसे खतरनाक पर्वतारोही अभियानों में शामिल होकर चुनौती को स्वीकार करती है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:A Army soldier died while returning from Mount Makalu