ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशबिहार से UP लाए जा रहे थे 95 बच्चे, बाल आयोग ने अयोध्या में किया रेस्क्यू

बिहार से UP लाए जा रहे थे 95 बच्चे, बाल आयोग ने अयोध्या में किया रेस्क्यू

विभिन्न राज्यों के मदरसों में भेजे जा रहे बच्चों के एक समूह को उत्तर प्रदेश राज्य बाल आयोग ने गोरखपुर में बचाया था। बच्चों को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के आदेश पर राज्य बाल पैनल द्वारा बचाया।

बिहार से UP लाए जा रहे थे 95 बच्चे, बाल आयोग ने अयोध्या में किया रेस्क्यू
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,अयोध्या।Sat, 27 Apr 2024 08:11 AM
ऐप पर पढ़ें

उत्तर प्रदेश बाल आयोग ने शुक्रवार को अयोध्या में 95 बच्चों को बचा लिया। उन्हें अवैध रूप से बिहार से उत्तर प्रदेश ले जाया जा रहा था। अयोध्या बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष सर्वेश अवस्थी ने बताया कि शुक्रवार सुबह यूपी बाल आयोग की सदस्य सुचित्रा चतुर्वेदी से सूचना मिलने के बाद सीडब्ल्यूसी सदस्यों ने बच्चों को बचाया।

उन्होंने कहा, "सुबह करीब 9 बजे यूपी बाल आयोग की सदस्य सुचित्रा चतुर्वेदी ने फोन किया और कहा कि बिहार से नाबालिग बच्चों को अवैध रूप से सहारनपुर ले जाया जा रहा है। वे गोरखपुर में हैं और अयोध्या होते हुए जाएंगे। हमने बच्चों को बचाया और उन्हें खाना दिया गया।"

उन्होंने बताया कि जिन बच्चों को बचाया गया उनकी उम्र 4-12 साल के बीच थी। उन्होंने कहा, "जो लोग बच्चों को लाए थे उनके पास माता-पिता से कोई सहमति पत्र नहीं था। बच्चों की उम्र 4-12 वर्ष के बीच है और उनमें से अधिकांश ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि उन्हें कहां ले जाया जा रहा है। माता-पिता से संपर्क किया जा रहा है और बच्चों को माता-पिता को सौंप दिया जाएगा।''

इससे पहले, बिहार से विभिन्न राज्यों के मदरसों में भेजे जा रहे बच्चों के एक समूह को उत्तर प्रदेश राज्य बाल आयोग ने गोरखपुर में बचाया था। बच्चों को राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के आदेश पर राज्य बाल पैनल द्वारा बचाया गया था।

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने एक्स पर इसकी जानकारी दी।  कानूनगो ने कहा, ''बिहार से दूसरे राज्यों के मदरसों में भेजे जा रहे मासूम बच्चों को एनसीपीसीआर के निर्देश पर उत्तर प्रदेश राज्य बाल आयोग की मदद से गोरखपुर में बचाया गया है।'' उन्होंने कहा,''भारत के संविधान ने हर बच्चे को शिक्षा का अधिकार दिया है। हर बच्चे के लिए स्कूल जाना अनिवार्य है। ऐसे में गरीब बच्चों को दूसरे राज्यों में ले जाकर धर्म के आधार पर चंदा कमाने के लिए मदरसों में रखना यह संविधान का उल्लंघन है।"