ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News देशकोरोना वायरस स्ट्रेन का खतरा टला नहीं, भारत में संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 38

कोरोना वायरस स्ट्रेन का खतरा टला नहीं, भारत में संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 38

भारत में कोरोना वायरस के नए स्वरूप स्ट्रेन के केस में दिन पर दिन बढ़ोतरी हो रही है। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि भारत में कुल 38 लोगों में SARS-CoV-2 के नए वायरस मिलने की पुष्टि हुई है।...

कोरोना वायरस स्ट्रेन का खतरा टला नहीं, भारत में संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा 38
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीMon, 04 Jan 2021 05:30 PM
ऐप पर पढ़ें

भारत में कोरोना वायरस के नए स्वरूप स्ट्रेन के केस में दिन पर दिन बढ़ोतरी हो रही है। सोमवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि भारत में कुल 38 लोगों में SARS-CoV-2 के नए वायरस मिलने की पुष्टि हुई है। बता दें कि शुक्रवार तक कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन के 29 मामले थे जो कि अब बढ़कर 38 पहुंच गए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि वायरस के नए प्रकार से संक्रमित लोगों को राज्य सरकारों द्वारा तय स्वास्थ्य सुविधाओं में अलग-अलग कमरों में आइसोलेट किया गया है। वहीं उनके संपर्क में आने वाले लोगों को भी क्वारंटाइन कर दिया गया है।

संक्रमित पाए गए 38 मरीजों में से 8 के नमूनों की पहंचान नेशनल सेंटर फ़ॉर डिसीज़ कंट्रोल (NCDC) नई दिल्ली, 11 इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) दिल्ली, एक नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ बायोमेडिकल जीनोमिक्स (NIBMG), कल्याणी (कोलकाता के पास), पुणे में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में पांच, हैदराबाद में सेंटर फॉर सेल्युलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी (CCMB) में तीन और बेंगलुरु के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरो साइंसेज हॉस्पिटल (NIMHANS) में 10 नमूनों में कोरोना वायरस के नए स्ट्रेन की पहंचान हुई है। 

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि नए स्ट्रेन के मरीजों के संपर्क में आने वालों को ट्रैस किया जा रहा है। इसके अलावा जो नमूने लैब पहुंच रहे हैं उनकी भी टेस्टिंग जारी है। मंत्रालय ने कहा कि फिलहाल स्थिति पर नजर बनी हुई है। राज्यों को बराबर जरूरी सलाह दिए जा रहे हैं। बता दें कि नए यूके वैरिएंट वायरस डेनमार्क, नीदरलैंड, ऑस्ट्रेलिया, इटली, स्वीडन, फ्रांस, स्पेन, स्विट्जरलैंड, जर्मनी, कनाडा, जापान, लेबनान और सिंगापुर में पहले ही पा लिया गया है। बता दें कि रविवार को कोरोना के नए स्ट्रेन के बीच भारत में दो वैक्सीनों के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी भी मिल गई है। इन दो वैक्सीन में एक ऑक्सफोर्ड की कोविशील्ड है और दूसरी भारत बायोटेक की कोवैक्सीन है जिसके आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिल गई है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने औषधि नियामक द्वारा दो टीकों के सीमित आपात इस्तेमाल को मंजूरी दिए जाने के एक दिन बाद सोमवार को कहा कि देश में कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने जा रहा है। उन्होंने 'भारत में निर्मित टीकों के लिए वैज्ञानिकों एवं तकनीशियनों की प्रशंसा करते हुए कहा कि देश को उन पर गर्व है। मोदी ने कहा, भारत में दुनिया का सबसे बड़ा कोविड-19 टीकाकरण कार्यक्रम शुरू हाने जा रहा है। इसके लिए देश को अपने वैज्ञानिकों के योगदान पर बहुत गर्व है। हर देशवासी सभी वैज्ञानिकों एवं तकनीशियनों का कृतज्ञ है।