DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानें कैसे महज एक महीने के भीतर चंद्रबाबू नायडू को लगे लगातार तीन बड़े झटके

cm of andhra chandra babu naidu- ht photo

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले केंद्र की राजनीति में बड़े जोर-शोर से दमखम दिखाने उतरे आंध्र प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और टीडीपी के मुखिया चंद्रबाबू नायडू को गुरुवार को एक और बड़ा झटका तब लगा जब उनके चार राज्यसभा सांसदों ने पार्टी छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया। राज्यसभा में छह सदस्यों वाली तेदेपा यानी टीडीपी के चार सदस्यों, वीई एस चौधरी, सी एम रमेश, जी मोहन राव, और टी जी वेंकटेश ने पार्टी का साथ छोड़ दिया और एक अलग गुट बनाकर भाजपा में विलय करने के अनुरोध का प्रस्ताव नायडू को सौंप दिया। इसके बाद टीडीपी के ये राज्यसभा सांसद बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा की मौजूदगी में बीजेपी में शामिल भी हो गए। इस तरह से चुनाव से पहले विपक्षी एकता की कवायद में बड़ी भूमिका निभाने वाले चंद्र बाबू नायडू को महज एक महीने के भीतर तीन बड़े झटके मिले हैं। 

टीडीपी के चार सासंदों ने छोड़ा साथ
टीडीपी मुखिया चंद्रबाबू नायडू को लोकसभा चुनाव और विधानसभा चुनाव में हार के बाद एक और बुरी खबर का सामना करना पड़ा। टीडीपी के आज चार राज्यसभा सांसद पार्टी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए। राज्यसभा में छह सदस्यों वाली टीडीपी के चार सदस्यों ने अलग गुट बनाकर भाजपा का समर्थन करने का ऐलान किया। इससे पहले टीडीपी यानी तेदेपा से अलग गुट बनाने वाले चार सदस्यों ने राज्यसभा के सभापति एम वैंकेया नायडू को पत्र लिखकर अपने फैसले से अवगत करा दिया। 

लोकसभा चुनाव में सीटों की संख्या हुई कम
लोकसभा चुनाव के दौरान विपक्षी एकता की कवायद को लेकर टीडीपी मुखिया चंद्रबाबू नायडू खासे सुर्खियों में रहे थे। राष्ट्रीय स्तर पर बड़ी भूमिका निभाने की कवायद करते दिखे चंद्रबाबू नायडू को लोकसभा चुनाव में बड़ा झटका लगा और उऩकी पार्टी महज तीन सीटों पर सिमट कर रह गई। लोकसभा चुनाव में जगनमोहन रेड्डी की पार्टी वाईएसआर कांग्रेस को 22 और टीडीपी को तीन सीटें हासिल हुईं. जबकि 2014 के लोकसभा चुनाव में चंद्रबाबू नायडू की टीडीपी के पास 16 सीटें थीं। 

विधानसभा चुनाव में गई कुर्सी
आंध्र प्रदेश में लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव भी हुए। लोकसभा चुनाव के साथ ही विधानसभा चुनाव में भी चंद्रबाबू नायडू की पार्टी टीडीपी को करारी हार का सामना करना पड़ा। विधानसभा चुनाव में वाईएसआर के हिस्से 150 और तेलुगू देशम के खाते में 22 सीटें आईं। जबकि 2014 के विधानसभा चुनावों जबरदस्त जीत हासिल कर चंद्रबाबू नायडू ने सरकार बनाई थी। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:3 big Setback for Chandrababu Naidu within one month as TDP Four Rajya Sabha Lawmakers Join BJP