DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करगिल युद्ध की 20वीं वर्षगांठ: वायुसेना ने ग्वालियर हवाई अड्डे को 'युद्ध थियेटर' में बदला

helicopter at gwalior air base

कारगिल युद्ध के 20 साल पूरे होने के अवसर पर भारतीय वायुसेना ने सोमवार को ग्वालियर हवाई अड्डे को एक युद्ध थिएटर में तब्दील कर दिया है जिसमें 1999 में हुए अभियान की कुछ महत्वपूर्ण घटनाओं का नाटकीय रूपांतरण पेश किया गया है। जम्मू कश्मीर के द्रास-करगिल इलाके में टाइगर हिल हमले का एक प्रतीकात्मक 'रूपांतरण' किया गया है जिसमें युद्ध की महत्वपूर्ण घटनाओं को फिर से बनाने के वास्ते 'मॉडल हिल को उड़ाने के लिए वायु सेना ने मिराज 2000 विमान और विस्फोटकों का इस्तेमाल किया है।

 

मिराज विमान से आतंकियों को पाक में घुसकर मारा: धनोआ

इस आयोजन के मुख्य अतिथि एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ थे। भारतीय वायुसेना ने युद्ध के 20 साल पूरा होने के उपलक्ष्य में हवाई अड्डे पर कई गतिविधियों की योजना बनाई है और टाइगर हिल हमले का प्रतीकात्मक 'रूपांतरण उनमें से एक है। हवाई अड्डे पर स्थित प्रदर्शनी में पांच मिराज 2000, दो मिग 21 और एक सुखोई 30 एमकेआई तैनात किया गया है।

2000 मिराज में से एक ने स्पाइस बम वाहक को दिखाया गया। बम का इस्तेमाल फरवरी में बालाकोट हवाई हमले में किया गया था। वायुसेना के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, ''करगिल युद्ध उच्च पर्वतीय परिस्थितियों में वायु शक्ति के उपयोग का एक अनुकरणीय अनुभव है...।"

'ऑपरेशन विजय' का हिस्सा रहे वीरता पुरस्कार पाने वाले कई सेवारत और सेवानिवृत्त वायुसेना कर्मी इस कार्यक्रम में भाग ले रहे हैं। एक अधिकारी ने कहा कि भारतीय सशस्त्र बलों ने द्रास-करगिल क्षेत्र में रणनीतिक पहाड़ी से दुश्मन को सफलतापूर्वक भगाने के लिए असाधारण वीरता का प्रदर्शन किया था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:20th year of Kargil war IAF turns Gwalior Air Base into war theatre