DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   देश  ›  दोबारा संक्रमण का खतरा बढ़ा, 20-30% लोगों ने कोरोना के खिलाफ 6 महीने में ही गंवाई इम्‍युनिटी, कहर के बीच एक और दहशत

देशदोबारा संक्रमण का खतरा बढ़ा, 20-30% लोगों ने कोरोना के खिलाफ 6 महीने में ही गंवाई इम्‍युनिटी, कहर के बीच एक और दहशत

अन्नोना दत्त, एचटी,नई दिल्लीPublished By: Shankar Pandit
Sun, 11 Apr 2021 09:49 AM
20 to 30 Percent people lose natural immunity against Covid in 6 months new study finds
1 / 220 to 30 Percent people lose natural immunity against Covid in 6 months new study finds
20 to 30 Percent people lose natural immunity against Covid in 6 months new study finds
2 / 220 to 30 Percent people lose natural immunity against Covid in 6 months new study finds

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है। हर दिन कोरोना संक्रण के दैनिक मामले रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं और भारत अमेरिका के बाद दुनिया का दूसरा ऐसा देश बन गया है, जहां एक दिन में डेढ़ लाख से अधिक केस मिले हैं। कोरोना की दूसरी लहर के कहर के बीच एक और डराने वाली बात सामने आई है। एक नए अध्ययन में पता चला है कि करीब 20 से 30 फीसदी लोगों ने कोरोना के खिलाफ 6 महीने में प्राकृतिक इम्‍युनिटी गंवा दी है और इससे दोबारा संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। 

कोरोना वायरस के खिलाफ प्राकृतिक इम्युनिटी कितने दिनों तक बनी रहती है? यह सवाल उनके मन में ज्यादा है जो इस महामारी से संक्रमित हुए हैं और उबरे हैं। इंस्‍टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्‍स एंड इंटिग्रेटिव बायोलॉजी (IGIB) की एक नई स्टडी में दावा किया गया है कि कोरोना वायरस के खिलाफ प्राकृतिक इम्‍युनिटी बनी रहती है। मगर कुल संक्रमितों में से 20 से 30 फीसदी लोगों ने 6 महीने के बाद इस प्राकृतिक इम्‍युनिटी को गंवा दिया है।

आईजीआईबी के डायरेक्‍टर डॉ. अनुराग अग्रवाल ने अपने एक ट्वीट में कहा, 'स्टडी में यह पाया गया है कि  सीरोपॉजिटिव होने के बाद भी 20 से 30 फीसदी लोगों के शरीर में वायरस को खत्म करने की प्रक्रिया कम होने लगी। 6 महीने का यह अध्‍ययन इस बात का पता लगाने में सहायक होगा कि आखिर क्‍यों मुंबई जैसे शहरों में हाई सीरोपॉजिटिविटी होने के वजह से भी संक्रमण से राहत क्‍यों नहीं मिल रही है।

यह शोध काफी महत्‍वपूर्ण है क्‍योंकि इससे यह जाना जा सकता है कि आखिर देश में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर कब तक रहेगी. यह वैक्‍सीन के महत्‍व को भी दर्शाता है. शोध अभी भी जारी है. लेकिन मौजूदा समय में कई ऐसी वैक्‍सीन हैं जो संक्रमणों से लड़ने और मौत से बचाने में महत्‍वपूर्ण मानी जाती हैं.

यह शोध इसलिए भी काफी अहम है, क्योंकि यह इस बात को भी समझाने में मदद करेगा कि आखिर देश में कोरोना की दूसरी लहर कब तक रहेगी। यह शोध इसलिए भी अहम है, क्योंकि यह वैक्सीन के महत्व को भी दर्शाता है। फिलहाल शोध जारी है और मौजूदा वक्त में अधिकतर वैक्‍सीन, संक्रमण से लड़ने और मौत से बचाने में अहम मानी जा रही हैं। 

शोधकर्ताओं का कहना है कि इस शोध के निष्कर्ष से यह पता चलेगा कि आखिर दिल्ली और महाराष्ट्र में एंटीबॉडीज या सीरोपॉजिटिविटी के हाई होने के बाद भी कोरोना के मामले इतनी तेज गति से क्यों बढ़ रहे हैं। शनिवार को दिल्ली में 7897 नए केस और मुंबई में 9327 केस मिले। बता दें कि भारत में अभी कोरोना वायरस की दूसरी लहर अपने पीक की ओर बढ़ रही है बीते 32 दिनों से लगातार इसके मामलो में इजाफा हो रहा है। शनिवार को 24 घंटे के भीतर 1 लाख 52 हजार से अधिक नए केस सामने आए और 800 से अधिक लोगों की मौत हुई। 
 

संबंधित खबरें