DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पाकिस्तान गए 10 आतंकवादी LOC कारोबार में शामिल, अलगाववादी को कराते थे फंड मुहैया

policemen present pakistani militant named waqar ahmad  who was recently arrested during a joint pre

सीमा पार कर पाकिस्तान जाने में सफल रहने वाले कम से कम 10 आतंकवादियों ने आईएसआई की सक्रिय मदद से सीमा पार कारोबार स्थापित किए थे और वे नियंत्रण रेखा (एलओसी) के पार से चलने वाले कारोबार में शामिल थे। इसके जरिए जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों और अलगाववादियों को फंड मुहैया कराया जाता था। इस कारोबार को हाल में सरकार ने स्थगित कर दिया।

अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जम्मू कश्मीर के ये निवासी या तो पाकिस्तान के इस्लामाबाद और रावलपिंडी में रह रहे हैं अथवा पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के मुजफ्फराबाद में। ये लोग आईएसआई की ओर से जम्मू कश्मीर में अशांति फैलाने के लिए धन भेजने की मंशा से बादाम, छुहारा, सूखे मेवे से ले कर आम तक का व्यापार करते हैं।

जम्मू-कश्मीर: अनंतनाग में सुरक्षा बलों ने दो आतंकवादियों को मार गिराया

एक वरिष्ठ सुरक्षा अधिकारी ने बताया, ''ये 10 आतंकवादी जम्मू कश्मीर और पीओके के बीच एलओसी पार से चलने वाले व्यापार का इस्तेमाल जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों तथा अलगाववादियों को धन मुहैया कराने में कर रहे है। भारत ने पिछले सप्ताह जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा के दो बिन्दुओं पर एलओसी पार से व्यापार को अनिश्चित काल के लिए स्थगित कर दिया था। ऐसी रिपोर्टें मिली थी कि सीमा पार के तत्व इस स्थानों का इस्तेमाल हथियारों, मादक पदार्थों तथा नकली नोट की तस्करी के लिए कर रहे हैं। 

सुरक्षा अधिकारियों ने इन 10 आतंकवादियों की विस्तृत जानकारी भी पेश की। इनमें से एक है-मेहराजुद्दीन भट्ट। वह त्राल का रहने वाला था और करीब 10 साल पहले आतंकवादी बनने के लिए पाकिस्तान चला गया था। फिलहाल वह रावलपिंडी में है और 'मेहराजुद्दीन ट्रेडर्स के नाम से कारोबार कर रहा है।

दूसरा है-नजीर अहमद भट। पांपोर निवासी भट पाकिस्तान चला गया था और आतंकवाद में शामिल हो गया था। फिलहाल वह इस्लामाबाद में है और 'न्यू कश्मीर ट्रेडर्स तथा 'न्यू कश्मीर फर्म के नाम से कारोबार कर रहा है। बशरत अहमद भट बड़गाम का रहने वाला था। कई साल पहले वह पाकिस्तान चला गया था और उसने आतंकवाद की राह पकड़ ली थी। वह रावलपिंडी में है और 'अल नसीर ट्रेडिंग कंपनी नाम की उसकी कंपनी है।

श्रीलंका ईस्टर विस्फोट में सरकार ने माना, सुरक्षा में 'बड़ी' चूक हुई

शौकत अहमद भट बड़गाम का रहने वाला था। वह आतंकवाद में शामिल होने के लिए पाकिस्तान चला गया था। वह फिलहाल रावलपिंडी में है और 'ताहा इंटरप्राइसेज नाम से कारोबार करता है। नूर अहमद बड़गाम निवासी था और 10 साल से भी ज्यादा वक्त हुए वह आतंकवाद में शामिल होने के लिए पाकिस्तान चला गया था। वह रावलपिंडी में है और 'अल नूर नाम से व्यापार करता है। इनके अलावा अन्य आतंकवादियों में खुर्शीद, इम्तियाज अहमद, आमिर, एजाज रहमानी और शब्बीर इलाही शामिल हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:10 terrorists who went to Pakistan involved in LOC business provided funds to separatist