फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ नंदनसिर्फ मशीन नहीं हैं अब रोबोट

सिर्फ मशीन नहीं हैं अब रोबोट

आग, बाढ़, चक्रवात, युद्ध, दंगे-फसाद, महामारी...कुछ ऐसी मुसीबतें हैं, जिनमें फंसे लोगों को बचाने और राहत कार्य के लिए काम करना आसान नहीं होता। इसे आसान बना सकते हैं एआई से लैस रेस्क्यू रोबोट। दुनिया...

सिर्फ मशीन नहीं हैं अब रोबोट
Anil Kumar प्रतिमा पांडेय,नई दिल्लीMon, 15 Jun 2020 09:10 AM

आग, बाढ़, चक्रवात, युद्ध, दंगे-फसाद, महामारी...कुछ ऐसी मुसीबतें हैं, जिनमें फंसे लोगों को बचाने और राहत कार्य के लिए काम करना आसान नहीं होता। इसे आसान बना सकते हैं एआई से लैस रेस्क्यू रोबोट। दुनिया के वैज्ञानिक इन्हें बनाने में लगे हैं
तुम कह सकते हो कि पहले भी भूकंप, बाढ़ या दंगे-फसाद वगैरह में खुदाई की मशीनें, ड्रिल मशीन, बुलेटप्रूफ गाड़ियों जैसी मशीनें काम आती थीं, तो अब नया क्या है? नया यह है कि पहले इन मशीनों के साथ किसी न किसी इनसान का होना जरूरी था, क्योंकि मशीनों में यह समझदारी नहीं थी कि कहां ताकत इस्तेमाल करनी है और कहां दिमाग। पर अब जो रेस्क्यू रोबोट मशीनें हैं, वे खुद ही जानती हैं कि कहां नरमी से काम करना है, कहां ताकत से, किसे बचाना है, कैसे मुड़ना है, कैसे शेप बदलनी है और कैसे लोगों की देखभाल करते हुए उन्हें सही जगह पहुंचाना है। जैसे कि इटली में बना वॉकमैन रेस्क्यू रोबोट। छह फुट लंबे इस रोबोट में अति आधुनिक कैमरे और सेंसर्स हैं, जिनसे वॉकमैन अपने आसपास की सूचना पाकर उसी हिसाब से निर्णय लेता है। 

epaper