DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Holi 2018 : होली के मौके पर पढि़ए ये मजेदार कविता

होली आई, होली आई
बोले ढमढम ढोल,
झूम रहे मस्ती में लाला
देखो गोल-मटोल।
जी भर नाचो-गाओ आज
बोलो मीठे बोल,
फागुन के इस मास में 
कर लो बहुत किलोल।
आज मिला है अवसर, घोलो
तुम सतरंगी घोल,
प्यार और मस्ती लाई हैं 
ये घड़ियां अनमोल।
           - वीरेंद्र जैन 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Read this interesting poem on Holi occasion