अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ANIMAL SLEEPING HABITS : बड़ा अनोखा है इन जानवरों के सोने का अंदाज

शरीर को घुमाकर सोना पसंद करता है डॉगी
शरीर को घुमाकर सोना पसंद करता है डॉगी

जंगल में रहने वाले कुत्ते जमीन में अपने बैठने के आकार का गड्ढा सा खोदकर उसमें गरमी व सुरक्षा के हिसाब से अपने शरीर को घुमाकर सोते हैं। आपके घर में पाला हुआ डॉगी कुछ अपने बिस्तर में आराम की मुद्रा में सोता है। अगर वह दोनों पैर पसारकर आराम से सोए, तो समझना चाहिए कि वह अपने आपको बहुत सुरक्षित महसूस कर रहा है। 

चौदह घंटे सोती है बिल्ली मौसी
चौदह घंटे सोती है बिल्ली मौसी

घरेलू बिल्लियां व जंगली बिल्लियां अधिकतर 13 से 14 घंटे तक दिन के समय सोती हैं। ज्यादातर अपना शिकार रात के समय करती हैं। 

हाथ पकड़ कर सोते हैं ऊदबिलाव
हाथ पकड़ कर सोते हैं ऊदबिलाव

जानवरों की दुनिया में एक और बहुत प्यारा नींद लेने का तरीका ऊदबिलाव का होता है। ये समुद्री जीव पीठ के बल समुद्र में समूह में तैरते हुए सोते हैं, वे भी हाथ पकड़कर, ताकि बिछड़ न जाएं।
  उत्तरी अमेरिका में पाए जाने वाले ऊदबिलाव आम तौर पर 18 से 27 किलो वजन के होते हैं। वहां उन्हें काफी सम्मान दिया जाता है। 

बड़ा अनोखा है बत्तखों के सोने का अंदाज
बड़ा अनोखा है बत्तखों के सोने का अंदाज

बत्तखों का सोने का अपना ही तरीका होता है। वे एक लाइन बनाकर सोती हैं। लाइन में पहली और आखिरी बत्तख एक-एक आंख खुली रखती हैं, जिससे किसी भी हिंसक जानवर पर नजर रखी जा सके। और लाइन में जो बत्तखें बीच में होती हैं, वे दोनों आंखें बंद करके सोती हैं।  

गर्दन घुमा कर सोते हैं जिराफ के बच्चे 
गर्दन घुमा कर सोते हैं जिराफ के बच्चे 

जिराफ का सोने का तरीका एकदम अलग है। वह थोड़े-थोड़े अंतराल पर सोता है। एक बार में पांच मिनट से ज्यादा नहीं सोता। एक साथ ज्यादा से ज्यादा तीस मिनट की नींद लेता है। जिराफ खड़ा-खड़ा ही सोता है, जबकि जिराफ के बच्चे अपनी गरदन को घुमाकर आराम की मुद्रा में सो जाते हैं। जिराफ ज्यादा से ज्यादा साढ़े चार घंटे ही सोता है। 

बारी-बारी से एक आंख खोल कर  सोती है डॉल्फिन
बारी-बारी से एक आंख खोल कर  सोती है डॉल्फिन

डॉल्फिन का सोने का अपना ही अंदाज है। वह सोते वक्त अपने दिमाग का आधा हिस्सा बंद करके सोती है। हर घंटे में बारी-बारी से एक आंख खोलकर वह खतरे को भांपती है, वह तब पानी में ऊपर की तरफ आ जाती है, फिर पानी में बहुत नीचे नहीं जाती। 

एक-दूसरे पर लद कर सोते हैं नटखट मीरकेट्स
एक-दूसरे पर लद कर सोते हैं नटखट मीरकेट्स

टीवी पर नन्हे मीरकेट्स की शरारत भरी हरकतों को तुमने कई बार देखा होगा। पर क्या उनके बारे में यह मजेदार बात जानते हो कि वे झुंड बनाकर एक साथ सोते हैं। कई बार तो ये एक-दूसरे के ऊपर चढ़ कर सो जाते हैं। इससे एक तो ठंडी रातों में गरमी बनी रहती है, दूसरा ये सुरक्षित रहते हैं। 

शरीर को बर्फ की तरह जमा लेता है मेढक
असल में मेढक सर्दी में शीतनिद्रा में चला जाता है। तुम्हें जानकर हैरानी होगी कि वह इस वक्त जरूरी अंगों (वाइटल ऑर्गन) के अलावा बाकी शरीर को बर्फ की तरह जमा लेता है और सांस भी धीमी कर लेता है।
छोटी-छोटी झपकियां लेता है एलबेट्रॉस
एलबेट्रॉस एक बड़ा समुद्री पक्षी है। यह एक वक्त में कई काम करने में माहिर होता है और ज्यादा से ज्यादा समय शिकार करने में लगाता है। जब यह हवा में उड़ता हैतभी कई सौ छोटी-छोटी झपकियों के रूप में बढ़िया सी नींद ले लेता है। 

20 घंटे तक सोता है चमगादड़
चमगादड़ के पंख बहुत मजबूत नहीं होते, इसलिए वह उल्टा होकर सोता है। चमगादड़ जब सोता है तो बहुत देर तक गहरी नींद में सोता है। और मजेदार बात यह कि वह देर तक सोने के मामले में तो वॉलरस को भी पीछे छोड़ देता है। कुल मिलाकर वह लगभग 20 घंटे तक लगातार सोता है।
कहीं भी सो जाता है वॉलरस 
वॉलरस यानी दरियाई घोड़ा। इसमें एक बड़ी खूबी होती 
है कि यह कभी भी और कहीं भी सो सकता है। यह 
जमीन पर लेटकर, पानी में तैरकर या पानी के नीचे 
कहीं भी सो जाता है। यह अपनी सांस को पांच मिनट तक रोक सकता है। जमीन पर तो यह 19 घंटों तक सोया रह सकता है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:How these animal sleeps