DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ढमढम ढोल

होली आई, होली आई
बोले ढमढम ढोल,
झूम रहे मस्ती में लाला
देखो गोल-मटोल।
जी भर नाचो-गाओ आज
बोलो मीठे बोल,
फागुन के इस मास में 
कर लो बहुत किलोल।
आज मिला है अवसर, घोलो
तुम सतरंगी घोल,
प्यार और मस्ती लाई हैं 
ये घड़ियां अनमोल।
   नंदन, मार्च 2002

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Drummer drum