फोटो गैलरी

Hindi News महाराष्ट्रतेज रफ्तार ने ली एक और जान, Intel इंडिया के पूर्व चीफ की मुंबई में मौत

तेज रफ्तार ने ली एक और जान, Intel इंडिया के पूर्व चीफ की मुंबई में मौत

चेंबूर के रहने वाले सैनी को ‘इंटेल 386’ और ‘486 माइक्रोप्रोसेसर’ की कार्यप्रणाली पर काम करने के लिए जाना जाता है। कंपनी के पेंटियम प्रोसेसर का डिज़ाइन तैयार करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका है।

तेज रफ्तार ने ली एक और जान, Intel इंडिया के पूर्व चीफ की मुंबई में मौत
Himanshu Jhaलाइव हिन्दुस्तान,मुंबई।Thu, 29 Feb 2024 01:31 PM
ऐप पर पढ़ें

इंटेल इंडिया के पूर्व कंट्री हेड अवतार सैनी की महाराष्ट्र के नवी मुंबई में साइकिल चलाते समय तेज रफ्तार कैब की चपेट में आने से मौत हो गई। पुलिस ने गुरुवार को यह जानकारी दी। एक अधिकारी ने बताया कि दुर्घटना बुधवार सुबह करीब 5.50 बजे उस वक्त हुई जब सैनी (68) नेरुल इलाके में पाम बीच रोड पर साथियों के साथ साइकिल चला रहे थे। उन्होंने बताया कि तेज रफ्तार कैब ने सैनी की साइकिल को पीछे से टक्कर मार दी और वहां से भागने की कोशिश की।

कैब के ड्राइवर को अन्य साइकिल सवारों ने पकड़ लिया और पुलिस को सौंप दिया। पुलिस ने कहा कि उसके खिलाफ लापरवाही से गाड़ी चलाने और लापरवाही में हुई मौत का मामला दर्ज किया गया है, लेकिन उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है।

अधिकारी ने बताया कि दुर्घटना में अवतार सैनी घायल हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

चेंबूर के रहने वाले सैनी को ‘इंटेल 386’ और ‘486 माइक्रोप्रोसेसर’ की कार्यप्रणाली पर काम करने के लिए जाना जाता है। उन्होंने कंपनी के ‘पेंटियम प्रोसेसर’ का डिज़ाइन तैयार करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। सैनी तीन साल पहले अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद अकेले रहते थे। उनका बेटा और बेटी अमेरिका में रहते हैं और वह अगले महीने उनसे मिलने वाले थे।

इंटेल इंडिया के अध्यक्ष गोकुल वी सुब्रमण्यम ने अवतार सैनी की मृत्यु पर दुख व्यक्त करते हुए कहा कि विपुल आविष्कारक को इंटेल में एक मूल्यवान गुरु के रूप में याद किया जाएगा।

उन्होंने लिंक्डइन पर एक पोस्ट में लिखा, "पूर्व कंट्री मैनेजर और इंटेल साउथ एशिया के निदेशक अवतार सैनी के निधन पर गहरा दुख हुआ है। अवतार ने भारत में इंटेल आर एंड डी सेंटर की स्थापना में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अवतार को एक उत्कृष्ट आविष्कारक के रूप में याद किया जाएगा। वह एक मूल्यवान गुरु थे।''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें