फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News महाराष्ट्रतो MVA में ही हो जाता खेला! अजित के साथ आने 50% तैयार थे शरद पवार; करीबी का दावा

तो MVA में ही हो जाता खेला! अजित के साथ आने 50% तैयार थे शरद पवार; करीबी का दावा

उपमुख्यमंत्री अजित पवार कैंप के नेता प्रफुल्ल पटेल ने बताया, 'बाद में अजित पवार और शरद पवार की मुलाकात पुणे में हुई। मुझे लगता है कि पवार साहब शामिल होने के लिए 50 फीसदी तैयार थे।'

तो MVA में ही हो जाता खेला! अजित के साथ आने 50% तैयार थे शरद पवार; करीबी का दावा
Nisarg Dixitलाइव हिन्दुस्तान,मुंबईThu, 11 Apr 2024 12:23 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी नेता प्रफुल्ल पटेल ने दिग्गज शरद पवार को लेकर बड़ा दावा कर दिया है। उनका कहना है कि पवार भी भतीजे अजित पवार के साथ आने के लिए 'आधे तैयार' तो हो गए थे। हालांकि, इसे लेकर शरद कैंप इसे बेकार की बात करार दे रहा है। पटेल राज्य के उपमुख्यमंत्री अजित पवार के खेमे में शामिल हैं। हाल ही में महाविकास अघाड़ी में सीट शेयरिंग पर मुहर लगी है।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पटेल ने कहा, '2 जुलाई 2023 को अजित पवार और हमारे मंत्रियों ने महाराष्ट्र सरकार में शपथ ली थी। 15 और 16 जुलाई को हम मुंबई में शरद पवार से मिले थे। हमने उनका आशीर्वाद लिया और साथ आने का अनुरोध किया। हमने कहा था कि हमें आपके नेतृत्व में काम करना है।'

उन्होंने आगे बताया, 'बाद में अजित पवार और शरद पवार की मुलाकात पुणे में हुई। मुझे लगता है कि पवार साहब (भारतीय जनता पार्टी और एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली शिवसेना की गठबंधन सरकार में) शामिल होने के लिए 50 फीसदी तैयार थे।'

बीते साल 2 जुलाई को एनसीपी में फूट हो गई थी। उस दौरान अजित समेत 8 मंत्री महाराष्ट्र सरकार में शामिल हो गए थे। बाद में एनसीपी में फूट की बात चुनाव चिह्न तक भी आई। फरवरी में भारत निर्वाचन आयोग यानी ECI का फैसला आया और अजित गुट को असली एनसीपी करार दे दिया गया। वहीं, सीनियर पवार की पार्टी को एनसीपी-शरदचंद्र पवार का नाम मिला।

क्या बोला शरद खेमा
प्रवक्ता क्लाइड क्रिस्टो का कहना है, 'ये बयान बेकार है और इसका कोई मतलब नहीं है। इस बयान में कोई भी सच्चाई नहीं है। ये सभी बयान सिर्फ अपनी कीमत बढ़ाने के लिए दिए जा रहे हैं, क्योंकि भाजपा अजित समूह के साथ ऐसे बर्ताव कर रही है, जैसे वे कुछ नहीं हैं। अगर कुछ होना होता, तो लंबे समय पहले हो जाता।'

बीते साल एक कार्यक्रम के दौरान भी पटेल ने कहा था कि एनसीपी के अधिकांश नेता 2022 में भाजपा की अगुवाई वाली सरकार में शामिल होना चाहते थे।