DA Image
हिंदी न्यूज़ › महाराष्ट्र › शरद पवार ने महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति को लेकर जतायी चिंता, बोले- केंद्र से मदद का मिला है भरोसा
महाराष्ट्र

शरद पवार ने महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति को लेकर जतायी चिंता, बोले- केंद्र से मदद का मिला है भरोसा

भाषा,मुंबई।Published By: Himanshu Jha
Thu, 08 Apr 2021 01:39 PM
शरद पवार ने महाराष्ट्र में कोरोना की स्थिति को लेकर जतायी चिंता, बोले- केंद्र से मदद का मिला है भरोसा

महाराष्ट्र में लगातार बढ़ रहे कोरोना के मामले को लेकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) अध्यक्ष शरद पवार ने चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने कोविड-19 से निपटने में महाराष्ट्र को मदद का आश्वासन दिया है। महाराष्ट्र में वर्तमान में कोरोना वायरस की स्थिति गंभीर बनी हुई है।

फेसबुक लाइव के जरिए शरद पवार ने बताया कि उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन से बुधवार को बात की। उन्होंने कोविड-19 की स्थिति से निपटने के लिए महाराष्ट्र और अन्य राज्यों को मदद का आश्वासन दिया। पवार की पार्टी महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस के साथ गठबंधन में सरकार में शामिल है।

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने लोगों से राज्य सरकार और प्रशासन से सहयोग करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार महाराष्ट्र के साथ सहयोग कर रही है और राज्य सरकार ने केंद्र और स्वास्थ्य विशेषज्ञों की सलाह के बाद कड़े प्रतिबंधों के फैसले लिए। महामारी की स्थिति बहुत गंभीर और खतरनाक हो गई है और कोई विकल्प नहीं बचा था। उन्होंने राजनीतिक दलों सहित सभी वर्गों के लोगों से अपील की कि वे महामारी के खिलाफ इस लड़ाई में सफल होने के लिए अपना सहयोग दें।

शरद पवार ने कहा कि संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा और उपचाराधीन मामलों की बढ़ती संख्या चिंता का विषय है। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए राज्य सरकार के पास पाबंदी लगाने के सिवा कोई विकल्प नहीं है, जिसे अनदेखा नहीं किया जा सकता है।

एनसीपी प्रमुख ने कहा, ''महाराष्ट्र में स्थिति गंभीर हो गयी है। मैं सभी पक्षों से स्थिति की गंभीरता को देखते हुए सहयोग करने की अपील करता हूं। नागरिकों के जीवन की रक्षा के लिए कुछ कड़े कदम उठाने आवश्यक हो गये हैं।''

हर्षवर्धन ने राज्यों पर फोड़ा था ठीकरा
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बुधवार को महाराष्ट्र एवं कुछ अन्य राज्यों पर लोगों का ध्यान बंटाने और उनमें दहशत फैलाने के लिए गैर जिम्मेदाराना बयान देकर एवं निंदनीय प्रयास के माध्यम से इस महामारी को लेकर अपनी विफलताओं को ढंकने की कोशिश करने का आरोप लगाया था।

शरद पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए स्वास्थ्यकर्मी बेहतर प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए विशेषज्ञों की सलाह पर सख्त पाबंदी लगाने जैसे कदम उठाये हैं। 

राज्य सरकार द्वारा पाबंदी लगाये जाने के विरोध में कारोबारियों और छोटे व्यापारियों के प्रदर्शन के बीच 80 वर्षीय नेता का यह बयान आया है। राज्य सरकार के आदेश के तहत 30 अप्रैल तक गैर-जरूरी की श्रेणी में आने वाली सभी दुकानें बंद रहेंगीं। महाराष्ट्र में विपक्षी भाजपा ने शुरू में राज्य सरकार के प्रयासों का समर्थन करने के बाद अब पाबंदियों की आलोचना की है।

संबंधित खबरें