फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ महाराष्ट्रफडणवीस इस हफ्ते चौथी बार जा सकते हैं दिल्ली, बैठकें जारी... लेकिन खुलकर बोलने को तैयार नहीं भाजपा नेता

फडणवीस इस हफ्ते चौथी बार जा सकते हैं दिल्ली, बैठकें जारी... लेकिन खुलकर बोलने को तैयार नहीं भाजपा नेता

उद्धव ठाकरे अपने राजनीतिक जीवन के सबसे बड़े संकट में हैं, क्योंकि शिवसेना के 55 में से लगभग 40 विधायकों ने बगावत कर दी है। हालांकि, दिल्ली और मुंबई में बीजेपी के नेता चुप्पी साधे हुए हैं।

फडणवीस इस हफ्ते चौथी बार जा सकते हैं दिल्ली, बैठकें जारी... लेकिन खुलकर बोलने को तैयार नहीं भाजपा नेता
Niteesh Kumarलाइव हिन्दुस्तान,मुंबईSun, 26 Jun 2022 01:43 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

महाराष्ट्र में शिवसेना नेता और राज्य के शहरी विकास मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में पार्टी विधायकों के विद्रोह ने महाविकास अघाड़ी सरकार को अस्थिर कर दिया है। MVA से जुड़े नेता भाजपा को शिंदे के विद्रोह के पीछे का मास्टरमाइंड बता रहे हैं। बीजेपी नेताओं ने बार-बार दावा किया है कि शिवसेना विधायकों की बगावत में हमारा कोई हाथ नहीं है। हालांकि जब यह दावा किया गया, उसी वक्त कुछ भाजपा नेता बागी विधायकों के साथ होटल में नजर आए। 

प्रदेश में बीजेपी नेताओं की बैठकें भी चल रही हैं। भाजपा नेता और विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस के मुंबई स्थित आवास पर भारी संख्या में लीडर्स और समर्थक पहुंचे हुए हैं। वहीं, फडणवीस के आज फिर दिल्ली जाने की उम्मीद है। इस हफ्ते फडणवीस का यह चौथा दिल्ली दौरा होगा।

महाराष्ट्र मामले पर चुप्पी साधे हुए हैं बीजेपी नेता
उद्धव ठाकरे अपने राजनीतिक जीवन के सबसे बड़े संकट में हैं, क्योंकि शिवसेना के 55 में से लगभग 40 विधायकों ने बगावत कर दी है। हालांकि, दिल्ली और मुंबई में बीजेपी के नेता चुप्पी साधे हुए हैं। फडणवीस ने भी दिल्ली में मीडिया से इस बारे में बात करने से परहेज किया है।

ऑपरेशन पूरा न होने तक शांत रहने का निर्देश?
उद्धव ठाकरे अपने राजनीतिक जीवन के सबसे बड़े संकट में हैं क्योंकि शिवसेना के 55 में से लगभग 40 विधायकों ने बगावत कर दी है। हालांकि, दिल्ली और मुंबई में बीजेपी के नेता चुप्पी साधे हुए हैं. बीजेपी नेताओं से अहम चर्चा के लिए दिल्ली आए देवेंद्र फडणवीस ने भी दिल्ली में मीडिया से बात करने से परहेज किया है। सूत्रों ने बताया कि सभी भाजपा नेताओं को निर्देश दिया गया है कि जब तक ऑपरेशन पूरा नहीं हो जाता, तब तक वे कोई टिप्पणी न करें।

epaper