फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News महाराष्ट्र'400 पार' के नारे से हुआ भारी नुकसान, CM एकनाथ शिंदे ने बताया चुनावों में कैसे पिछड़ा NDA गठबंधन

'400 पार' के नारे से हुआ भारी नुकसान, CM एकनाथ शिंदे ने बताया चुनावों में कैसे पिछड़ा NDA गठबंधन

Maharashtra News: एकनाथ शिंदे की शिवसेना ने महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से सात पर जीत हासिल की है, जबकि भाजपा ने 9 और अजित पवार की एनसीपी ने सिर्फ एक सीट पर जीत दर्ज की है।

'400 पार' के नारे से हुआ भारी नुकसान, CM एकनाथ शिंदे ने बताया चुनावों में कैसे पिछड़ा NDA गठबंधन
Pramod KumarPTI,मुंबईTue, 11 Jun 2024 09:49 PM
ऐप पर पढ़ें

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने मंगलवार को कहा कि हालिया लोकसभा चुनावों में '400 पार' के नारे से एनडीए गठबंधन को भारी नुकसान उठाना पड़ा है। उन्होंने कहा कि इस नारे के जोर पकड़ने से  संविधान बदलने और आरक्षण हटाने को लेकर लोगों में आशंका घर करने लगी थी। बता दें कि भाजपा ने इस बार के चुनाव में एनडीए 400 पार का नारा दिया था। यानी एनडीए के सभी सहयोगियों द्वारा लोकसभा की 543 में से 400 सीटों को जीतने का लक्ष्य रखा गया था। 

हालांकि, पहले चरण के चुनाव के बाद इस नारे पर चर्चा बंद कर दी गई थी। मुख्यमंत्री शिंदे ने मुंबई में कृषि लागत और मूल्य आयोग की बैठक में कहा, "हमें विपक्ष द्वारा 400 पार के नारे के बारे में गढ़ी गई झूठी कहानी के कारण कुछ स्थानों पर हार का सामना करना पड़ा। महाराष्ट्र में भी हमें इसका खामियाजा भुगतना पड़ा।" उन्होंने कहा, "400 पार" के नारे के कारण लोगों को लगा कि भविष्य में संविधान बदलने और आरक्षण हटाने जैसे मुद्दों पर कुछ गड़बड़ हो सकती है। 

एकनाथ शिंदे की शिवसेना ने महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से सात पर जीत हासिल की है, जबकि भाजपा ने 9 और अजित पवार की एनसीपी ने सिर्फ एक सीट पर जीत दर्ज की है। उधर विपक्षी इंडिया गठबंधन के तहत कांग्रेस ने 13, उद्धव ठाकरे की शिवसेना ने 9 और शरद पवार की एनसीपी ने 8 सीटों पर जीत दर्ज की है। एक निर्दलीय ने भी जीत दर्ज की थी।

बता दें कि कृषि लागत और मूल्य आयोग (CACP) केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय के अधिकार क्षेत्र में है और चुनिंदा फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की सिफारिश करता है। इसकी स्थापना 1965 में कृषि मूल्य आयोग के रूप में की गई थी और इसे 1985 में इसका वर्तमान नाम दिया गया।