फोटो गैलरी

Hindi News महाराष्ट्रचल, पहले 10 किलो वजन कम कर फिर राहुल गांधी से मिलवाऊंगा, बाबा सिद्दीकी के विधायक बेटे के गंभीर आरोप

चल, पहले 10 किलो वजन कम कर फिर राहुल गांधी से मिलवाऊंगा, बाबा सिद्दीकी के विधायक बेटे के गंभीर आरोप

जीशान सिद्दीकी ने कहा कि मुझे भारत जोड़ो यात्रा के दौरान हटा दिया गया। मुझे उनके (राहुल गांधी) एक करीबी नेता ने कहा कि पहले चल, दस किलो कम कर, फिर राहुल गांधी से मिलवाऊंगा।

चल, पहले 10 किलो वजन कम कर फिर राहुल गांधी से मिलवाऊंगा, बाबा सिद्दीकी के विधायक बेटे के गंभीर आरोप
Madan Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,मुंबईThu, 22 Feb 2024 10:37 PM
ऐप पर पढ़ें

हाल ही में कांग्रेस छोड़कर अजित पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी में शामिल होने वाले बाबा सिद्दीकी के विधायक बेटे जीशान सिद्दीकी को हाल ही में मुंबई युवा कांग्रेस प्रमुख के पद से हटा दिया गया। कांग्रेस विधायक जीशान ने अब प्रेस कॉन्फ्रेंस में कांग्रेस पर जमकर हमला बोला है। उन्होंने अजित पवार के प्रति अपनी पसंद जाहिर करते हुए कांग्रेस छोड़ने का भी संकेत दिया। जीशान ने कहा कि मल्लिकार्जुन खरगे उनके पिता के समान हैं और राहुल गांधी एक अच्छे नेता हैं लेकिन राहुल गांधी की टीम किसी भी प्रतिद्वंद्वी पार्टी की तुलना में राहुल गांधी को अधिक नुकसान पहुंचा रही है।

'चल, पहले दस किलो वजन कम कर'
कांग्रेस विधायक जीशान सिद्दीकी ने दावा किया कि भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मुझे उनके (राहुल) एक करीबी नेता ने कहा कि पहले चल, दस किलो कम कर, फिर राहुल गांधी से मिलवाऊंगा। जीशान ने नाराजगी जताते हुए कहा, ''मैं विधायक हूं, क्या मैं तुम्हारा खाता हूं? राहुल की टीम इतनी भ्रष्ट है। राहुल अपना काम अच्छे से कर रहे हैं, लेकिन उनकी टीम काफी रूड है।'' जीशान ने यह भी कहा कि राहुल गांधी अच्छे नेता हैं। वे अपना काम कर रहे हैं। मल्लिकार्जुन खरगे मेरे पिता सामान हैं, लेकिन उनके हाथ बंधे हुए हैं। राहुल गांधी की जो टीम है,  वो कांग्रेस को खत्म करते जा रही है। लगता है कि उन्होंने सामने वाली पार्टी से सुपारी ली है कांग्रेस को खत्म करने की।

'लोग पूछ रहे मुझे पद से क्यों हटाया'
जीशान सिद्दीकी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, "कई लोग मुझसे पूछ रहे हैं कि मुझे पद से क्यों हटाया गया है। ईमानदारी से कहूं तो मुझे नहीं पता क्योंकि वरिष्ठ नेतृत्व ने मुझे सूचित नहीं किया कि मुझे हटा दिया गया है। एक तरफ, वरिष्ठ नेताओं ने मुझे फोन किया और कहा कि वे हैं। अब मेरे पिता का मानना है कि चूंकि मेरे पिता पार्टी में नहीं हैं, इसलिए मुझे मेरे पद से हटा दिया गया। यदि परिवार के किसी सदस्य का दूसरी पार्टी में शामिल होना मुद्दा है, तो राहुल गांधी को कांग्रेस में नहीं रहना चाहिए क्योंकि मेनका गांधी और वरुण गांधी भाजपा के साथ हैं। एके एंटनी और अनिल एंटनी जैसे कई ऐसे उदाहरण हैं। लेकिन उनका सरनेम सिद्दीकी नहीं है। तो क्या मेरे सरनेम की वजह से दिक्कत है?''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें