फोटो गैलरी

Hindi News महाराष्ट्रभंग करो शिंदे समिति, मराठा आरक्षण पर अपनी ही सरकार का विरोध करने लगे मंत्री छगन भुजबल

भंग करो शिंदे समिति, मराठा आरक्षण पर अपनी ही सरकार का विरोध करने लगे मंत्री छगन भुजबल

एनसीपी नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री छगन भुजबल ने कहा है कि अब शिंदे समिति को भंग कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सारे मराठाओं को ओबीसी का दर्जा देना ठीक नहीं है।

भंग करो शिंदे समिति, मराठा आरक्षण पर अपनी ही सरकार का विरोध करने लगे मंत्री छगन भुजबल
Ankit Ojhaएजेंसियां,मुंबईTue, 28 Nov 2023 10:44 AM
ऐप पर पढ़ें

मराठा आरक्षण की चर्चा जोरों पर है और इसे जल्द से जल्द मराठाओं को ओबीसी का दर्जा दिलवाने के लिए जस्टिस शिंदे कमेटी बनाई गई है जो कि पूरे राज्य में सर्वे कर रही है। कैबिनेट की बैठक में शिंदे कमेटी को मंजूरी दी गई थी। हालांकि सरकार में शामिल अजित पवार की अगुआई वाली एनसीपी के नेता और राज्य में मंत्री छगन भुजबल ने इस कमेटी और सभी मराठाओं को आरक्षण देने के पुरजोर विरोध शुरू कर दिया है। उनका कहना है कि इस कमेटी को भंग कर देना चाहिए। सभी मराठाओं को ओबीसी का दर्जा दे देना ठीक नहीं है। केवल कुनबी प्रमाणपत्र धारकों को ही आरक्षण देना चाहिए। वहीं इस बात की भी जांच जरूरी है कि फर्जी प्रमाणपत्र तो नहीं बनवाए जा रहे हैं। 

बता दें कि छगन भुजबल ने पहले कुनबी प्रमाणपत्र जारी करने की प्रक्रिया को रोकने की मांग की थी। उन्होंने कहा कि सभी मराठाओं को आरक्षण देने का वह विरोध करते रहेंगे। भुजबल ने कहा कि मराठा समुदाय को पूर्ण आरक्षण देना कानून के हिसाब से सही नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मराठा समुदाय को ओबीसी श्रेणी में नहीं लाया जा सकता क्योंकि यह कोई पिछड़ी जाति नहीं है। 

बता दें कि अजित पवार के नेतृत्व वाली एनसीपी मराठा आरक्षण का समर्थन कर रही है, वहीं भुजबल इसके विरोध में हैं। एनसीपी का कहना है कि संविधान में सरकार को अधिकार दिया गया है कि जरूरत पड़ने पर किसी समुदाय को अलग से आरक्षण दिया जा सकता है। भुजबल ने कहा कि पहले मांग थी की जो मराठा कुनबी हैं उन्हें प्रमाणपत्र दिया जाए। निजाम के समय के दस्तावेजों की जांच करके प्रमाणपत्र जारी किया जाए। तेलंगाना से भी सबूत ढूंढे जा रहे थे। समिति ने काम करना शुरू किया। पहले 5 हजार  लोगों को रिकॉर्ड मिले। इसके बाद समिति ने पश्चमी महाराष्ट्र, उत्तरी महाराष्ट्र और विदर्भ के साथ पूरे महाराष्ट्र में सर्वे शुरू कर दिया। ऐसे सारे मराठा आरक्षण ले लेंगे। मराठवाड़ा में काम खत्म होने के बाद शिंदे समिति को बर्खास्त कर देना चाहिए। 

भुजबल को मिली धमकी
छगन भुजबल के बयान के बाद उन्हें मराठा संगठन के सदस्य ने धणकी दी है और उसने कहा कि अगर आरक्षण का विरोध बंद नहीं किया गया तो उनका महाराष्ट्र में घूमना मुश्किल हो जाएगा। बता दें कि वह सरकारी गेस्ट हाउस में थे तभी एक व्यक्ति उनकी गाड़ी के पास नारेबाजी करने लगा। इस शख्स का नाम धनंजय जाधव बताया गया है। 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें