DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जब आपका पेट करे परेशान, जानें कैसे रखें पेट की सेहत का ध्यान?

प्रतीकात्मक तस्वीर

पेट खराब होने से तरह-तरह की बीमारियों की आशंका काफी बढ़ जाती है। कई बार समय पर पता भी नहीं चलता और समस्या गंभीर हो जाती है। ऐसे में पेट की सेहत का ध्यान रखना जरूरी हो जाता है। कैसे रखें अपने पेट की सेहत का ध्यान, बता रही हैं निधि गोयल

आपका पेट सही नहीं है तो आप हमेशा अस्वस्थ ही महसूस करेंगे, क्योंकि हमारी सेहत सबसे ज्यादा पेट से जुड़ी होती है। यदि पेट ही खराब है तो ये कई बीमारियों का कारण बन सकता है। आजकल की व्यस्त जीवनशैली में आपको ये ध्यान ही नहीं रहता कि आप अपने खानपान में जो ले रहे हैं वह सेहत के लिहाज से ठीक है भी या नहीं। कहीं भी कभी भी, खाने की जो भी चीज मिल जाए, कई बार स्वाद के चक्कर में तो कई बार मजबूरी में खा लेते हैं। कई बार ज्यादा दवा लेना, मिनरल्स की कमी, तनाव आदि के कारण भी आपके पाचन तंत्र के बैक्टीरिया पेट का संतुलन बिगाड़ सकते हैं। इसलिए ध्यान रखें, यदि पेट स्वस्थ रहेगा, तभी शरीर स्वस्थ रहेगा। इस बात को ध्यान में रखते हुए पेट का ध्यान रखा जाना जरूरी हो जाता है। तो किन-किन बातों पर दें ध्यान, आइए जानें-

आंत में संक्रमण

शरीर की इम्यूनिटी कमजोर होने के कारण कई बार छोटी आंत में खराब बैक्टीरिया जमा होने लगते हैं। ऐसे में छोटी आंत में संक्रमण होने लगता है, जिस कारण कई तरह की सेहत से जुड़ी समस्याएं होने लगती हैं।

अगर हो जाए पेट खराब

1. पेट में खराबी होने के कारण शरीर में बहुत सी बीमारियां घर करने लगती हैं, जो आपके लिए हमेशा की समस्या बन जाती है और धीरे-धीरे सेहत गिरने लगती है।
2. पेट खराब होने पर छोटी आंत में मौजूद बैक्टीरिया शरीर में खराब कोलेस्ट्रॉल को बढ़ावा देते हैं। इससे दिल की बीमारी का खतरा बढ़ जाता है।
3. यदि पेट में समस्या बनी रहती है तो इसका असर हमारी त्वचा पर दिखने लगता है। खुजली और मुहांसे जैसी समस्या ऐसे में आम हो जाती हैं। 
4. आंतों में खराब बैक्टीरिया जमा होने के कारण शरीर में न्यूट्रिएंट्स ठीक से अवशोषित नहीं हो पाते। ऐसे में वजन घटने लगता है।
5. पेट खराब होने का असर सबसे ज्यादा हमारी प्रतिरोधक क्षमता पर पड़ता है। प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होने पर किसी भी तरह का बुखार और संक्रमण बड़ी आसानी से हमें घेरने लगता है। कमजोर प्रतिरोधक क्षमता अनेक बीमारियों का कारण बनती चली जाती है।
6. कब्ज एक बड़ी समस्या है, जिसका हमारी पाचन क्रिया पर सीधा असर पड़ता है। सही तरह से खाना न पचने से आपका पाचन तंत्र बिगड़ जाता है, जिससे शरीर को जरूरी पोषण भी नहीं मिल पाता है।
7. यदि पाचन तंत्र सही तरह से काम न करे और खाना ठीक से न पचे तो कई बार गैस की समस्या पैदा हो जाती है, जो कई तरह की दिक्कतों को जन्म देती है।

ये करेंगे पेट का संक्रमण दूर

पिएं भरपूर पानी
पेट खराब होने पर शरीर में पानी की कमी हो जाती है। ऐसे में कोशिश करें कि ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। ऐसी स्थिति में आप फलों का जूस और सब्जियों का रस भी ले सकते हैं। बेहतर होगा अगर पानी में लवण मिला हो। आप चाहें तो नीबू पानी, नमक-चीनी का घोल या फिर नारियल पानी ले सकते हैं। गाजर का जूस भी ऐसे समय में काफी फायदेमंद होता है। लेकिन इस बात का भी ध्यान रखें कि एक बार में उसे ज्यादा मात्रा में न पिएं। 

प्रोबायोटिक्स का सेवन करें 
पेट के अच्छे स्वास्थ्य के लिए प्रोबायोटिक्स को अपने आहार में शामिल करें। इससे आपके पेट में स्वास्थ्यवर्धक बैक्टीरिया बढ़ेंगे, पाचन ठीक होगा और पोषक तत्वों का अवशोषण होगा। यह बेकार बैक्टीरिया को भी खत्म करते हैं, जिससे शरीर से जहरीले पदार्थ बाहर निकलते हैं और शरीर का पंचन तंत्र दुरुस्त होता है।

साबुत अनाज खाएं 
साबुत अनाज में फाइबर, विटामिन, मिनरल्स और पानी की अधिकता होती है। इसलिए इनके सेवन से पेट का स्वास्थ्य ठीक रहता है। हर बार के खाने में एक सब्जी जरूर शामिल करें।

सेब का सिरका
बात जब पेट दर्द में घरेलू उपाय की हो तो सेब के सिरके से बेहतर कुछ भी नहीं। सेब के सिरके में पेक्टिन की पर्याप्त मात्रा होती है, जिससे पेट दर्द और मरोड़ में राहत मिलती है। इसका अम्लीय गुण खराब पेट के संक्रमण को ठीक करने में भी कारगर है। एक चम्मच सिरके को एक गिलास पानी में मिलाकर पीने से जल्दी आराम होता है।

दही
पेट दर्द में दही का इस्तेमाल काफी फायदेमंद रहता है। दही में मौजूद बैक्टीरिया संतुलन बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, जिससे पेट जल्दी ठीक होता है। ये पेट को ठंडा भी रखता है।

अदरक
पेट की गड़बड़ी से राहत दिलाने में अदरक भी काफी कारगर होता है। इसमें एंटीफंगल और एंटी-बैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं, जो पेट दर्द में राहत देते हैं। एक चम्मच अदरक रस का सेवन काफी फायदेमंद साबित होता है।

पुदीना
पुदीना एक बेहद असरदार हर्ब है। सदियों से इसका इस्तेमाल पेट से जुड़ी समस्याओं के समाधान में किया जाता रहा है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सिडेंट्स पाचन क्रिया को सुधारने में भी सहायक होते हैं।

जीरा
अगर आपको लगातार दस्त हो रहे हों तो एक चम्मच जीरा चबा लें। अमूमन सभी घरों में मिलने वाला ये मसाला दस्त में काफी फायदेमंद है। जीरा चबाकर पानी पी लेने से दस्त बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं।

बेल का शरबत
कई जगहों पर इसे श्रीफल के नाम से भी जाना जाता है। बेल फाइबर से युक्त होता है। इससे बना शरबत भी काफी गाढ़ा और फाइबर युक्त होता है। फाइबर पेट को बांधने का काम करता है, जिससे दस्त जल्दी ठीक हो जाते हैं।

डॉक्टरी सलाह
यदि आपको घरेलू चीजों से राहत नहीं मिल रही है तो समझ लें कि आपके पेट में संक्रमण अत्यधिक बढ़ गया है। ऐसे में आप डॉक्टर से सलाह लें। कई बार जब संक्रमण ज्यादा बढ़ जाता है तो वह एंटीबायोटिक्स से ही सही होता है। ऐसे में डॉक्टर कुछ जरूरी जांच कराते हैं। अल्ट्रासाउंड और खून टेस्ट के जरिए देखा जाता है कि कहीं लिवर पर ज्यादा असर तो नहीं पड़ा। उसके बाद जरूरी दवा लिखी जाती है।  

(फिजिशियन डॉ. ओम प्रकाश से की गई बातचीत पर आधारित)

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:know how to maintain of your stomach health by home remedies