फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशट्रेनों में टुकड़ों में मिली महिला की लाश की हुई शिनाख्त, जानिए कौन और कहां की रहने वाली थी वह?

ट्रेनों में टुकड़ों में मिली महिला की लाश की हुई शिनाख्त, जानिए कौन और कहां की रहने वाली थी वह?

पुलिस ने बताया कि रतलाम जिले के गोपाल के बताए हुलिये के आधार पर महिला के शव की पहचान की गई। साथ ही पुष्टि के लिए DNA टेस्ट भी करवाया जा रहा है। इस साल राज्य भर से मीरा नाम की 39 महिलाएं लापता हुई थीं।

ट्रेनों में टुकड़ों में मिली महिला की लाश की हुई शिनाख्त, जानिए कौन और कहां की रहने वाली थी वह?
the body of a woman found in pieces in two trains has been identified know who the deceased was and
Sourabh Jainभाषा,इंदौरWed, 19 Jun 2024 06:51 PM
ऐप पर पढ़ें

GRP (शासकीय रेलवे पुलिस) ने बुधवार को दावा किया कि इंदौर और ऋषिकेश में दो यात्री ट्रेनों के भीतर अलग-अलग टुकड़ों में मिले महिला के शव की पहचान हो गई है। हालांकि, महिला की हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए GRP की कोशिशें जारी हैं।

GRP के एक अधिकारी ने बताया कि महिला के दोनों हाथ और दोनों पैर ऋषिकेश में एक यात्री ट्रेन में 10 जून को मिले थे, जबकि उसके शरीर के बाकी हिस्से उत्तराखंड की इस धार्मिक नगरी से करीब 1,150 किलोमीटर दूर इंदौर में एक अन्य यात्री ट्रेन से 9 जून को बरामद किए गए थे।

GRP की इंदौर इकाई के पुलिस अधीक्षक संतोष कोरी ने बताया, 'नृशंस हत्याकांड की शिकार महिला की पहचान मीरा (35) के रूप में हुई है। वह रतलाम जिले के बिलपांक थाना क्षेत्र की रहने वाली थी।' उन्होंने बताया कि मीरा विवाहित थी और उसकी दो बेटियां भी हैं।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि 35 वर्षीय महिला पति से झगड़े के बाद छह जून को अपने घर से चली गई थी और कई दिन तक खोजे जाने के बाद भी उसका कोई पता नहीं चला, जिसके बाद उसके परिवार ने 12 जून को बिलपांक पुलिस थाने में उसकी गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

कोरी ने बताया कि महिला की हत्या के संदिग्धों से पूछताछ के साथ ही विस्तृत जांच जारी है। GRP इस हत्याकांड में पक्का सुराग देने वाले व्यक्ति को 10,000 रुपए का इनाम देने की घोषणा पहले ही कर चुकी है।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि युवती के हाथ पर हिन्दी की देवनागरी लिपि में 'मीरा बेन' और 'गोपाल भाई' गुदा मिला था। कोरी ने बताया, 'हमें पता चला है कि गोपाल दरअसल मीरा के सगे भाई का नाम है। रतलाम क्षेत्र में एक समुदाय में लड़कियों के हाथ पर उनके नाम के साथ उनके भाई का नाम गुदवाने की परंपरा है।'

GRP थाना प्रभारी संजय शुक्ला ने बताया कि उनकी जुटाई जानकारी के मुताबिक इस साल राज्य भर में मीरा नाम की 39 महिलाएं लापता हुई हैं। उन्होंने बताया, 'रतलाम जिले की निवासी मीरा के भाई के नाम (गोपाल) के साथ ही महिला के हुलिये और आभूषणों के आधार पर उसके शव की पहचान की गई। हालांकि, हम पहचान की पुष्टि के लिए DNA जांच भी करा रहे हैं।'