फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशकौन हैं जगीदेश देवड़ा और राजेंद्र शुक्ला? जिनको दी गई एमपी के डिप्टी सीएम की कमान

कौन हैं जगीदेश देवड़ा और राजेंद्र शुक्ला? जिनको दी गई एमपी के डिप्टी सीएम की कमान

Deputy CM Post of Madhya Pradesh: जगदीश देवड़ा और राजेंद्र शुक्ला मध्य प्रदेश के नए उप-मुख्यमंत्री बनाए गए हैं। भाजपा विधायक दल की बैठक में सर्व सम्मति से इनके नाम पर सहमति बनी है।

कौन हैं जगीदेश देवड़ा और राजेंद्र शुक्ला? जिनको दी गई एमपी के डिप्टी सीएम की कमान
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,भोपालMon, 11 Dec 2023 06:07 PM
ऐप पर पढ़ें

मोहन यादव मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री होंगे। भाजपा विधायक दल की बैठक में सर्व सम्मति से उनके नाम पर सहमति बनी। सूबे के कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर विधानसभा अध्यक्ष होंगे। भाजपा ने सूबे में दो डिप्टी सीएम बनाने का भी फैसला किया है। जगदीश देवड़ा और राजेंद्र शुक्ला सूबे के दो डिप्टी सीएम होंगे। जगदीश देवड़ा मंदसौर के मल्हारगढ़ विधानसभा से विधायक निर्वाचित हुए हैं। जगदीश देवड़ा एससी वर्ग से आते हैं। वहीं राजेन्द्र शुक्ला रीवा सीट से विधायक चुने गए हैं। 

राजेंद्र शुक्ला (Rajendra Shukla) रीवा विधानसभा सीट विधायक निर्वाचित हुए हैं। उनको विंध्य के कद्दावर नेताओं में गिना जाना जाता है। इन विधानसभा चुनावों में विजय श्री के साथ वह पांचवीं बार विधायक के तौर पर विधानसभा पहुंचे हैं। वह सूबे की सरकारों में चार बार कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। चुनावों में प्रदर्शन के लिहाज से देखें तो राजेंद्र शुक्ला अब तक अजेय रहे हैं। गौर करने वाली बात यह भी कि वह पार्टी के ऐसे नेता हैं जिनको विधायक निर्वाचित होने के बाद हर बार मंत्री पद दिया गया है।

जगदीश देवड़ा की बात करें तो इस बार चुनाव में उन्होंने 59,024 मतों के अंतर से निर्दलीय विधायक श्यामलाल जोकचंद को शिकस्त दी है। शांत स्वभाव के जगदीश देवड़ा विवादों से दूर रहते हैं। विवादित मसलों पर वह कम ही बोलते हैं। माना जा रहा है कि शांत स्वाभाव और गंभीर नेता की छवि के कारण ही पार्टी ने उन्हें डिप्टी सीएम की कमान सौंपी है। पार्टी संगठन में भी उनकी अच्छी पकड़ मानी जाती है। उन्होंने 1990 में एक विधायक के तौर पर अपने सियासी सफर की शुरुआत की थी। 

विश्लेषकों की मानें तो पार्टी ने सूबे की कमान नए चेहरों को सौंपकर सूबे के निर्णायक वर्गों को साधने की कोशिश की है। पार्टी ने मोहन यादव को कमान सौंपकर ओबीसी मतदाताओं को साधने की कोशिश की है। साथ ही जगदीश देवड़ा को डिप्टी सीएम बनाकर एससी वर्ग के मतदाताओं को भी खुश करने का प्रयास किया है। सूबे में ओबीसी और एससी वर्ग के मतदाताओं की अच्छी खासी संख्या है। राजेन्द्र शुक्ला को डिप्टी सीएम का पद देकर सामान्य वर्ग के वोटर्स को भी साधने की कोशिश की गई है। 

अपने 33 साल के लंबे सियासी कॅरियर में जगदीश देवड़ा आठवीं बार विधायक के तौर पर निर्वाचित होकर विधानसभा पहुंचे हैं। वह 2003 में उमा भारती सरकार में भी मंत्री रहे। शिवराज सिंह चौहान की सरकार में भी उन्होंने बड़े मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली है। नीमच जिले के रामपुरा के रहने जगदीश देवड़ा के पिता का नाम गेंदालाल देवड़ा है। जगदीश देवड़ा के दो बेटे हैं। उनकी पत्नी का नाम रेणु देवड़ा है। परास्नातक जगदीश देवड़ा ने एलएलबी भी किया है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें