फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशमध्य प्रदेश के युवा का अनोखा शौक, चार साल में जुटा लिए लाखों के पुराने नोट और क्वॉइन

मध्य प्रदेश के युवा का अनोखा शौक, चार साल में जुटा लिए लाखों के पुराने नोट और क्वॉइन

बुरहानपुर के एक माहेश्वरी परिवार का करेंसी प्रेम देखते ही बनता है। अपने दादा और पिता की विरासत में मिली पुरानी करेंसी को युवा आकाश माहेश्वरी ने अपने अनोखे शौक को जुनून के तौर पर आगे बढ़ाया और उसने...

मध्य प्रदेश के युवा का अनोखा शौक, चार साल में जुटा लिए लाखों के पुराने नोट और क्वॉइन
Ravindra Kailasiyaरवींद्र कैलासिया, भोपाल, लाइव हिंदुस्तानSun, 23 Jan 2022 03:57 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

बुरहानपुर के एक माहेश्वरी परिवार का करेंसी प्रेम देखते ही बनता है। अपने दादा और पिता की विरासत में मिली पुरानी करेंसी को युवा आकाश माहेश्वरी ने अपने अनोखे शौक को जुनून के तौर पर आगे बढ़ाया और उसने महज चार साल में ही करीब डेढ़ लाख पुराने नोट व सिक्कों का संग्रहण कर लिया है। अपने इस संग्रहण की वह मुंबई, कोलकाता, अहमदाबाद, लखनऊ, हैदराबाद में प्रदर्शनी भी लगा चुका है। 

 

पुराने नोट और सिक्कों के संग्रहण के शौकीन माहेश्वरी परिवार का घर बुरहानपुर के कसेरा बाजार क्षेत्र में है। तीसरी पीढ़ी के आकाश माहेश्रवरी ने अपनी विरासत को ऐसे संग्रहित किया है कि उनका कमरा सोने-चांदी की दुकानों के जेवरातों के प्रदर्शन स्थल जैसा लगता है। इस संग्रहण में सबसे आकर्षक चीज पत्थर की मुद्रा है जो मुगलकाल में चला करती थी। आकाश की मानें तो उसके पास कुशान और औरंगजेब की मुद्रा भी है। पत्थरों की ये ज्यादातर मुद्राएं गोलाकार की हैं।

30 देशों की करेंसी का कलेक्शन
आकाश के पास करीब तीस देशों की करेंसी संग्रह में है। इसमें प्राचीन मुगललीन, रियासतकालीन, ब्रिटिशकालीन सिक्के भी हैं। विक्टोरिया और एडवर्ड सिक्कों से लेकर मौजूदा सिक्के उनके कलेक्शन का हिस्सा हैं। साथ ही देश में जबसे नोट शुरू हुए हैं, उनका भी संग्रहण मौजूद है। शुरू से अब तक के 10 रूपए 20 रूपए 50 रूपए 500 रूपए और हजार वाले नोट कलेक्शन में मौजूद हैं। नोटों में फेंसी नंबर वाली करेंसी और मिसप्रिंट वाली करेंसी भी उनके संग्रहण का हिस्सा हैं। 

दो आने का सिक्का
बुरहानपुर के आकाश माहेश्वरी के पास जो कलेक्शन है, उसमें विदेशी डॉलर से लेकर भारतीय दो आने तक के सिक्के हैं। यही नहीं एक समय जब गोलाकार के बीच में छेद वाले सिक्कों का चालन था तो वह सिक्के भी उनके कलेक्शन में हैं। भारतीय मुद्रा के एक पैसे, दो पैसे, पांच पैसे, दस पैसे, बीस पैसे, पच्चीस पैसे, पचास पैसे के कई तरह के सिक्के भी माहेश्वरी के पास हैं। दो-पांच और दस पैसे अलग-अलग धातु वाले सिक्के के रूप में भी उनके पास संग्रह में मौजूद है। 

epaper