Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशमध्य प्रदेश में बाल कांग्रेस के गठन में जातिवाद का दंश, भाजपा ने कांग्रेस को ऐसे घेरा

मध्य प्रदेश में बाल कांग्रेस के गठन में जातिवाद का दंश, भाजपा ने कांग्रेस को ऐसे घेरा

भोपाल, लाइव हिंदुस्तानRavindra Kailasiya
Sun, 05 Dec 2021 01:48 PM
मध्य प्रदेश में बाल कांग्रेस के गठन में जातिवाद का दंश, भाजपा ने कांग्रेस को ऐसे घेरा

इस खबर को सुनें

कांग्रेस मध्य प्रदेश में 16 साल के किशोरों को पार्टी से जोड़ने की पहल कर रही है और इसके लिए बाल कांग्रेस का गठन किया जा रहा है। मगर इसकी शुरुआत विवाद से हुई है और सदस्यता के लिए तैयार किए गए फार्म में जाति पूछे जाने से बवाल मच गया है। भाजपा ने इसे मुद्दा बनाते हुए किशोरावस्था में ही आने वाली पीढ़ी में जातिवाद का दंश भरने के आरोप लगाया है। कांग्रेस ने कहा कि धर्म-जाति की राजनीति भाजपा करती है, कांग्रेस नहीं।

 

मध्य प्रदेश में भाजपा की सरकार को 18 साल हो रहे हैं जिससे राज्य की एक पीढ़ी कांग्रेस से विशेष रूप से परिचित नहीं है। पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकारों के कामों के बारे में उसे जानकारी नहीं है जिससे भाजपा सरकार के काम की वह तुलना नहीं कर पाती है और दोनों के कामों में से बेहतर को चुनाव करने में परेशानी होती है। इसी कंसेप्ट के साथ कांग्रेस ने नई पीढ़ी को अपनी विचारधारा से जोड़ने के लिए बाल कांग्रेस बनाई है जिसके लिए 16 साल से ज्यादा उम्र के बच्चों को सदस्यता दी जा रही है। पार्टी की इस कोशिश की शुरुआत के साथ ही भाजपा ने कांग्रेस को घेर दिया है।

जातिवाद फैलाने का आरोप
बाल कांग्रेस की सदस्यता के फार्म में कई जानकारियां पूछी जा रही हैं जिसमें एक कॉलम जाति का भी है। इसको लेकर मध्य प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने ट्वीट कर कांग्रेस को घेरा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस नई पीढ़ी में जातिवाद का जहर घोल रही है। उन्होंने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमल नाथ से इस पर जवाब मांगा है। चतुर्वेदी ने कहा है कि कांग्रेस का तुष्टिकरण, जातिवाद और फूट डालो फार्मूला अब हीं चलेगा। इस पर कांग्रेस ने पलटवार किया है। मप्र कांग्रेस के प्रवक्ता अजय सिंह यादव ने कहा कि धर्म-जाति की राजनीति भाजपा करती है, कांग्रेस नहीं। चुनाव से लेकर तमाम विभागों में जब जानकारियां मांगी जाती है तो उनमें भी नाम-पता व जाति पूछी जाती है। यह कोई नई चीज नहीं है।

epaper

संबंधित खबरें