फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशदुकानदार समोसा के साथ कटोरी, चम्मच नहीं देता, युवक ने CM हेल्पलाइन में की शिकायत; हुई कार्रवाई

दुकानदार समोसा के साथ कटोरी, चम्मच नहीं देता, युवक ने CM हेल्पलाइन में की शिकायत; हुई कार्रवाई

वंश बहादुर ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करते हुए इस बात का भी उल्लेख किया था की जो व्यक्ति राकेश समोसा वाले की दुकान पर समोसा पैक करता है वह उसमें चम्मच एवं कटोरी नहीं रखता है जिससे असुविधा होती है।

दुकानदार समोसा के साथ कटोरी, चम्मच नहीं देता, युवक ने CM हेल्पलाइन में की शिकायत; हुई कार्रवाई
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,छतरपुरMon, 05 Sep 2022 09:50 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

किसी राज्य के मुख्यमंत्री के पास जनता द्वारा की गई कई तरह की शिकायतों के बारे में आपने सुना होगा। लेकिन समोसा से जुड़ा कोई विवाद सीएम तक पहुंच जाए ऐसा शायद ही आपने सुना होगा। मध्य प्रदेश में सीएम हेल्पलाइन पर एक ऐसी शिकायत दर्ज कराई गई जो चर्चा का विषय बन गई है। छतरपुर जिले में सीएम हेल्पलाइन पर एक अजीबोगरीब शिकायत दर्ज कराई गई है। यह शिकायत समोसा के साथ कटोरी एवं चम्मच नहीं मिलने को लेकर की गई।

दरअसल 30 अगस्त को वंश बहादुर नाम के एक आवेदक ने सीएम हेल्पलाइन में कोमल लखेरा के माध्यम से एक शिकायत दर्ज कराई थी। इस शिकायत में कहा गया था कि बस स्टैंड क्रमांक दो पर राकेश समोसा नाम की जो दुकान है वहां पर ग्राहकों को कटोरी एवं चम्मच नहीं दी जाती है।

वंश बहादुर ने सीएम हेल्पलाइन में शिकायत करते हुए इस बात का भी उल्लेख किया था की जो व्यक्ति राकेश समोसा वाले की दुकान पर समोसा पैक करता है वह उसमें चम्मच एवं कटोरी नहीं रखता है जिससे ग्राहकों को असुविधा होती है।

आवेदक वंश बहादुर छतरपुर के उचहा कला का रहने वाला है और  वह 30 अगस्त को बस स्टैंड समोसा लेने के लिए छतरपुर के बस स्टैंड क्रमांक दो पर स्थित राकेश समोसा वाले की दुकान में गया था। जहां दुकान में समोसा पैक करने वाले व्यक्ति ने चम्मच और कटोरी नहीं दी थी|


सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत मिलने के बाद इसपर एक्शन भी हुआ। इस शिकायत को खाद एवं औषधि विभाग को ट्रांसफर कर दिया गया। इस मामले में 4 दिनों तक जांच-पड़ताल भी हुई। इसके बाद 30 अगस्त को सीएम हेल्पलाइन में दर्ज हुई शिकायत का निपटारा 3 सितंबर तक कर दिया गया। शिकायत के स्टेटस में इस बात का जिक्र किया गया है की आवेदक वंश बहादुर अब संतुष्ट हैं और अब वह आगे की कार्रवाई नहीं चाहते हैं।