फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशमुर्मू को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से 'मामा' गदगद, आदिवासी बन जमकर नाचे शिवराज

मुर्मू को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से 'मामा' गदगद, आदिवासी बन जमकर नाचे शिवराज

आदिवासी नेता द्रौपदी मुर्मू को एनडीए की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी गदगद हैं। शिवराज सिंह चौहान ने इसे पीएम मोदी का चमत्कार है।

मुर्मू को राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से 'मामा' गदगद, आदिवासी बन जमकर नाचे शिवराज
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,भोपालThu, 23 Jun 2022 02:26 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

आदिवासी नेता और झारखंड की पूर्व राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को एनडीए की ओर से राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाए जाने से मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान भी गदगद हैं। गुरुवार को 'मामा' आदिवासी रूप में नजर आए और नाच-गाकर अपनी खुशी का इजहार किया। उनके साथ एमपी बीजेपी के अध्यक्ष वीडी शर्मा भी थे। मध्य प्रदेश में भी आदिवासियों की करीब 2 करोड़ आबादी है और भाजपा को उम्मीद है कि देश के सर्वोच्च पद पर एक आदिवासी महिला के बैठने से राजनीतिक रूप से उसे कई राज्यों में लाभ हो सकता है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ट्विटर पर वीडियो शेयर करते हुए अपनी खुशी का इजहार किया और लिखा, ''आदरणीय द्रौपदी मुर्मू जी को राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार बनाने पर मा. प्रधानमंत्री नरेंद्र जी और राष्ट्रीय नेतृत्व के आभार कार्यक्रम से पूर्व जनजातीय भाई-बहनों के साथ उनके अद्वितीय लोक नृत्य-संगीत का साथी वीडी शर्मा जी के साथ आनंद लिया।

मुर्मू की उम्मीदवारी को लेकर राष्ट्रीय नेतृत्व के आभार कार्यक्रम में में शामिल होने के बाद शिवराज ने कहा, ''यह केवल श्रीमती द्रौपदी मुर्मू जी का सम्मान नहीं है, बल्कि देश और प्रदेश के समस्त जनजातीय भाई-बहनों का सम्मान है। यह आनंद का दिन है, उत्सव का दिन है। आज गाने और बचाने का दिन है। मेरी भी इच्छा हो रही है आपके साथ खूब नाचूं। हम नाचे भी। जो किसी ने नहीं सोचा था वह मोदी जी ने किया है, भाजपा ने किया।''

शिवराज ने कहा, ''किसी ने नहीं सोचा था कि आदिवासी समाज की एक बहन एक दिन भारत के सर्वोच्च पद पर बैठेगी, राष्ट्रपति होगी और तीनों सेनाओं की मुखिया होगी। सचमुच में आज चमत्कार हुआ है। मोदी जी धन्य हो आप, आपने सारी परंपरा बदल दी। नहीं तो राष्ट्रपति कौन बनेगा, ज्यादा पढ़ा लिखा, किसी बड़े घराने में पैदा हुआ हुआ ही राष्ट्रपति बनेगा। एक साधारण घर में पैदा हुई, जो पहले शिक्षिका था, बाद में पार्षद, विधायक, मंत्री और राज्यपाल बनीं।''