फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशधार्मिक ध्रुवीकरण की कोशिश में जुटी शिवराज सरकार, MP के कई मंदिरों का होगा विस्तारीकरण

धार्मिक ध्रुवीकरण की कोशिश में जुटी शिवराज सरकार, MP के कई मंदिरों का होगा विस्तारीकरण

विस्तारीकरण के तहत इन मंदिरों का ना केवल स्वरूप बदलेगा, बल्कि श्रद्धालुओं के हिसाब से यहां सुविधाएं भी तैयार होंगी। मंदिरों के विस्तारीकरण के लिए पर्यटन विभाग को जिम्मेदारी दी गई है।

धार्मिक ध्रुवीकरण की कोशिश में जुटी शिवराज सरकार, MP के कई मंदिरों का होगा विस्तारीकरण
Suyash Bhattलाइव हिंदुस्तान,भोपालThu, 03 Nov 2022 05:20 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सियासी तैयारियां शुरू हो गई है। लेकिन देखा जा रहा है कि प्रदेश को 2023 विधानसभा चुनाव से पहले धर्म से सराबोर करने का पूरा अभियान बन रहा है। उज्जैन में ''श्री महाकाल लोक'' के बाद अब प्रदेश के दूसरे बडे़ मंदिरों को भी विस्तार करने की योजना है। अगले 2 साल में प्रमुख मंदिरों को संवारने का काम करेगी।

जानकारी के अमुसार सूबे की शिवराज सरकार अगले 2 सालों में मध्य प्रदेश के प्रमुख मंदिरों का कायाकल्प करने जा रही है। प्रदेश के मंदिरों को 3000 करोड़ की लागत से सजाया और सवारा जाएगा। प्रदेश सरकार राज्य के कई मंदिरों का विस्तारीकरण करवाएगी। जिसमें प्रदेश के दूसरे ज्योर्तिलिंग ओंकारेश्वर मंदिर का काम सबसे पहले शुरू हो सकता है।

बताया जा रहा है विस्तारीकरण के तहत इन मंदिरों का ना केवल स्वरूप बदलेगा, बल्कि श्रद्धालुओं के हिसाब से यहां सुविधाएं भी तैयार होंगी। मंदिरों के विस्तारीकरण के लिए पर्यटन विभाग को जिम्मेदारी दी गई है। राज्य सरकार केंद्र सरकार के पर्यटन मंत्रालय की ''प्रसाद'' का भी लाभ लेगी।

सूत्रों की माने तो ओंकारेश्वर मंदिर का काम जल्द शुरू होगा। यहां 108 फीट की शंकराचार्य की प्रतिमा भी बनेगी। इसके अलावा महाकाल लोक की तरह अलग-अलग चरणों में 2 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा के प्रोजेक्ट के तहत यह काम होगा।

राजनीतिक गलियारों में मंदिरों के कायाकल्प की योजना को प्रदेश में राजनीतिक लिहाज से भी जोड़कर देखा जा रहा है।क्योंकि धार्मिक स्थलों का डेवलपमेंट और कायाकल्प करके भाजपा पूरी तरीके से धार्मिक वोटरों को साधने में जुटती हुई नजर आ रही ऐसा माना जाता है कि मध्य प्रदेश में एक बड़ा वर्ग है जो धार्मिक आधार पर अपना रुख तैयार करता है।

भाजपा के अलावा कांग्रेस का भी पूरा फोकस धार्मिक लिहाज से बना हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री और पीसीसी अध्यक्ष कमलनाथ को प्रदेश में एक बड़े धार्मिक नेता के तौर पर पेश किया जा रहा है। साथ ही चुनाव से पहले कांग्रेस ने कई धार्मिक कार्यक्रम करवाने की योजना भी बनाई है।

इन मंदिरों का होगा विस्तारीकरण:

ओंकारेश्वर मंदिर (खंडवा जिला)
सलकनपुर माता मंदिर (सीहोर जिला)
पीताम्बरा मंदिर (दतिया जिला)
शनिश्चरा मंदिर (चित्रकूट सतना जिला)
मैहर माता मंदिर (सतना जिला)