Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशदिग्विजय ने जब सिंधिया परिवार को गद्दार कहा तो भाजपा ने पलटवार में राघौगढ़ राजाओं की गद्दारी के किस्से बताए

दिग्विजय ने जब सिंधिया परिवार को गद्दार कहा तो भाजपा ने पलटवार में राघौगढ़ राजाओं की गद्दारी के किस्से बताए

भोपाल, लाइव हिंदुस्तानRavindra Kailasiya
Sun, 05 Dec 2021 06:33 PM
दिग्विजय ने जब सिंधिया परिवार को गद्दार कहा तो भाजपा ने पलटवार में राघौगढ़ राजाओं की गद्दारी के किस्से बताए

इस खबर को सुनें

सिंधिया परिवार को गद्दार बताने पर अब भाजपा भी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह परिवार के राघौगढ़ के राजाओं की गद्दारी के किस्से सुनाने लगी है। गुना में दिग्विजय सिंह ने चुटकी लेते हुए जब केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और सिंधिया परिवार को पानीपत की लड़ाई, झांसी की रानी, कमलनाथ सरकार को गिराने को गद्दारी बताया तो इस बार भाजपा शांत नहीं रही है। पलटवार करते हुए भाजपा ने दिग्विजय के पूर्वज व राघौगढ़ के राजाओं की गद्दारी को भी गिनाना शुरू कर दिया है। 

 

गुना में दिग्विजय सिंह ने एक सभा में यह कहा कि सिंधिया ने पूरा फायदा उठाया कांग्रेस से और अब चले गए भाजपा में। गद्दारों को कोई नहीं भुलता। जब भी झांसी की रानी की बात होती है तो ग्वालियर के सिंधिया परिवार का नाम गद्दारी में आता है। दिग्विजय सिंह यहीं नहीं रुके बल्कि पानीपत की लड़ाई का भी जिक्र किया और कहा कि अगर सिंधिया परिवार उस समय हिंदू राजाओं का साथ देते तो अहमद शाह अब्दाली हार जाता। इसी तरह कमल नाथ सरकार को लेकर दिग्विजय ने कहा कि अगर सिंधिया भाजपा में नहीं जाते तो आज कमल नाथ की सरकार रहती और बिजली के बिल आधे रहते।

भाजपा ने राघौगढ़ राजाओं की गद्दारी गिनाई
 दिग्विजय सिंह के सिंधिया के गद्दारी के आरोपों पर भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता पंकज चतुर्वेदी ने राघौगढ़ राजाओं की गद्दारी का इतिहास बताया। उन्होंने दिग्विजय से कहा कि 1775-82 राघौगढ़ के राजा बलवंत सिंह ने मराठाओं के विरुद्ध चिदेशियों का साथ दिया था। बाद में महाराज सिंधिया ने पराजित किया था और बलवंत सिंह को ग्वालियर के किले में कैद किया था क्योंकि उन्होंने देश के साथ धोखा किया था। इसी तरह राघौगढ़ के राजा रघुवीर सिंह ब्रिटिशर्स की मदद करते रहे थे। चतुर्वेदी ने कहा कि राजा जयसिंह अंग्रेजों के सबसे ज्यादा नजदीक बताते हुए दिग्विजय सिंह को कहा कि वे पहले देश का इतिहास पढ़ें और फिर गद्दारी के आरोपों पर बात करें। 

epaper

संबंधित खबरें