फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशऐसे उम्मीदवारों को टिकट देते ही क्यों हो, इंदौर के सियासी घमासान के बीच राजनाथ सिंह

ऐसे उम्मीदवारों को टिकट देते ही क्यों हो, इंदौर के सियासी घमासान के बीच राजनाथ सिंह

इंदौर में कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम ऐन वक्त पर नामांकन वापस लेकर बीजेपी में शामिल हो गए थे। हाल ही में सुमित्रा महाजन ने इस पर हैरानी भी जताई थी।

ऐसे उम्मीदवारों को टिकट देते ही क्यों हो, इंदौर के सियासी घमासान के बीच राजनाथ सिंह
Aditi Sharmaलाइव हिन्दुस्तान,इंदौरSun, 05 May 2024 01:09 PM
ऐप पर पढ़ें

इंदौर में कांग्रेस उम्मीदवार अक्षय कांति बम के नामांकन वापस लेकर बीजेपी में शामिल होने के बाद से ही सियासी घमासान मचा हुआ है। एक तरफ कांग्रेस जहां लोगों से इंदौर में नोटा का बटन दबाने की अपील कर रही है तो वहीं पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भी इस पर हैरानी जताई थी। अब रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी इस तरह के मामलों पर प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा,  भारत में निर्विरोध चुनाव कोई असामान्य बात नहीं है, पहले भी कई बार कांग्रेस के उम्मीदवार निर्विरोध जीते हैं।

इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, कांग्रेस ऐसे उम्मीदवारों को टिकट देती ही क्यों है?  हमने उनसे कभी संपर्क नहीं किया। अगर कोई हमारे पास आता है और कहता है 'मैं आपका समर्थन करना चाहता हूं', तो क्या हम ना कह दें? राजनाथ सिंह ने कहा, उन्हें एहसास हो गया होगा कि मोदी सरकार अच्छा कर रही है और वे जीत नहीं सकते। आपको उस पार्टी से सवाल करना चाहिए,  हम पर आरोप क्यों लगा रहे हैं? उम्मीदवार को अपने पक्ष में रखना कांग्रेस की जिम्मेदारी थी।

बता दें, इंदौर से पहले सूरत में भी कांग्रेस प्रत्याशी का नामांकन खारिज होने के बाद कांग्रेस को झटका लगा था। तब प्रस्तावकों के हस्ताक्षर गलत होने पर नामांकन खारिज हुआ था। इसके बाद अन्य उम्मीदवारों ने भी अपना नाम वापस ले लिया जिसके बाज बीजेपी उम्मीदवार मुकेश दलाल निर्विरोध जीत गए। 

इससे पहले पूर्व लोकसभा अध्यक्ष श्रीमती महाजन ने एक न्यूज चैनल को दिए इंटरव्यू में इंदौर से कांग्रेस प्रत्याशी रहे अक्षय कांति बम के नाम वापस लेकर चुनावी मैदान से हटने और उनके भाजपा में शामिल होने के मुद्दे पर हैरानी जतायी है। उन्होंने कहा कि ऐसा क्यों हुआ, वे नहीं बता सकती हैं, लेकिन शहर के प्रबुद्ध व्यक्ति उन्हें फोन करके इस बारे में सवाल उठा रहे हैं। श्रीमती महाजन ने कहा, “मुझे ऐसे लोगों को इस बारे में समझाना पड़ रहा है। ऐसे लोग भाजपा के स्थान पर नोटा को वोट देने की बात कर रहे हैं।”

इंदौर का संसद में दो दशक तक प्रतिनिधित्व कर चुकीं श्रीमती महाजन ने कहा कि इंदौर से कांग्रेस प्रत्याशी के नाम वापस लेने की जानकारी उन्हें मिली, तो आश्चर्य में पड़ गयीं।

कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने श्रीमती महाजन के न्यूज चैनल को दिए गए साक्षात्कार का एक हिस्सा सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए आज लिखा है, “यह सुमित्रा महाजन जी हैं। इंदौर से 9 बार भाजपा सांसद रहीं। मोदी के पहले टर्म में लोकसभा अध्यक्ष भी रहीं। कह रही हैं ‘कई लोगों के कॉल आ रहे हैं कि हम भाजपा को वोट नहीं देंगे, हम तो नोटा करेंगे।’”