फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशप्राइवेट स्कूलों ने नहीं माना कलेक्टर का आदेश, अब देना पडे़गा भारी जुर्माना; ऐक्शन क्यों

प्राइवेट स्कूलों ने नहीं माना कलेक्टर का आदेश, अब देना पडे़गा भारी जुर्माना; ऐक्शन क्यों

मामला मध्य प्रदेश के ग्वालियर का है। ग्वालियर की कलेक्टर रुचिका सिंह ने तीन स्कूलों पर दो-दो लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। आइये जानते हैं कलेक्टर ने स्कूलों पर ऐक्शन क्यों लिया है।

प्राइवेट स्कूलों ने नहीं माना कलेक्टर का आदेश, अब देना पडे़गा भारी जुर्माना; ऐक्शन क्यों
private schools did not obey the collector order now they will have to pay a heavy fine
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,ग्वालियरThu, 13 Jun 2024 05:22 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के ग्वालियर जिले की कलेक्टर रुचिका सिंह ने मनमानी फीस लेने वाले स्कूलों पर कड़ा ऐक्शन लिया है। उन्होंने शहर की तीन स्कूलों पर दो-दो लाख रुपए का जुर्माना लगाया है। कलेक्टर ने इन प्राइवेट स्कूलों को मानक से ज्यादा बढ़ाई गई फीस वापस करने का निर्देश जारी किया था। निर्देश का उल्लंघन होने के बाद कलेक्टर ने इन स्कूलों पर भारी जुर्माना लगा दिया।

इस मामले की जानकारी देते हुए ग्वालियर के जिला शिक्षा अधिकारी अजय कटिहार ने बताया है कि जिला स्तरीय समिति के अनुमोदन के बिना तीन प्राइवेट स्कूल सेंट जोसेफ कॉन्वेंट स्कूल, कार्मल कॉन्वेंट और राम श्री कृष्णा स्कूल ने 10 फीसदी से अधिक फीस वृद्धि की थी। जांच में यह मनमानी पकड़े जाने के बाद कलेक्टर ने तीनों स्कूलों को आदेश दिए कि अध्यनरत सभी छात्रों को बढ़ी हुई फीस वापस किया जाए। इसके लिए कलेक्टर रुचिका सिंह ने एक महीने का समय भी दिया था, लेकिन समय बीते जाने के बाद उन्होंने कोई भी फीस वापस नहीं की।

कलेक्टर के आदेश को एक महीना बीत जाने के बाद भी स्कूल संचालकों ने फीस वापसी की प्रक्रिया चालू नहीं की थी। उसके बाद स्कूल संचालकों ने कुछ दिन की मोहलत मांगते हुए कहा कि अभी वह हिसाब लगा रहे हैं। कुछ ही दिन बाद छात्रों की फीस वापस कर देंगे। इसके बाद कलेक्टर रुचिका सिंह चौहान इन तीनों स्कूलों पर दो-दो लाख रुपए का जुर्माना लगाया है।

कलेक्टर ने जारी किया था नोटिस
ग्वालियर की कलेक्टर रुचिका सिंह ने इस मामले में नोटिस जारी किया था। प्राइवेट स्कूलों में फीस वृद्धि और अन्य मामले में स्कूलों को एक महीने पहले नोटिस जारी किया था। इन स्कूलों के द्वारा छात्रों के अभिभावकों को फीस वापस करने की निर्देश दिए थे। लेकिन इन तीनों स्कूलों ने फीस वापस नहीं की इसके बाद कलेक्टर ने यह कार्रवाई की है।