DA Image
9 मार्च, 2021|6:50|IST

अगली स्टोरी

MP: धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोप में 5 स्टैंड-अप कॉमेडियन गिरफ्तार, अमित शाह के खिलाफ भी की थी टिपण्णी

accused arrest

मध्यप्रदेश पुलिस ने हिंदू देवी-देवताओं का अपमान करने के आरोप में शुक्रवार को इंदौर में पांच स्टैंड-अप कॉमेडियन को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जिन्हें गिरफ्तार किया है उनमें, मुनव्वर फारुकी, एड्विन एंथोनी, प्रखर व्यास, प्रियम व्यास और नलिन यादव शामिल हैं। ये सभी इंदौर में एक कैफे में नए साल के कार्यक्रम में लोगों का मनोरंजन कर रहे थे।

हिंदू रक्षक संगठन के एक सदस्य ने कार्यक्रम के दौरान इसका विरोध किया और जमकर हंगामा खड़ा कर दिया। आपको बता दें कि कॉमेडियन ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के खिलाफ भी कथित रूप से टिप्पणी की।

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि कॉमेडियन पर हिंदू देवी-देवताओं, रीति-रिवाजों और अमित शाह के खिलाफ "अभद्र और अपमानजनक" टिप्पणी का आरोप लगाया गया है। मिल रही जानकारी के मुताबिक, सभी आरोपी को पुलिस स्टेशन ले जाया गया। कथित तौर पर उनके साथ मारपीट भी की गई और बाद में उनके खिलाफ प्रथम सूचना रिपोर्ट (एफआईआर) दर्ज की गई।

इस घटना का एक वीडियो क्लिप भी वायरल हो रहा है, जिसमें भीड़ ने कॉमेडियन पर हमला किया है। हालांकि थाना प्रभारी कमलेश शर्मा ने कहा कि उन्हें हमले की कोई जानकारी नहीं है। हिन्दू रक्षक संस्था के संयोजक एकलव्य सिंह गौड़ ने शर्मा के आरोपों का समर्थन किया है।

पांचों को भारतीय दंड संहिता की धारा 295-ए (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्यों से धार्मिक भावनाओं को अपमानित करना), 298 (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के इरादे से जानबूझकर किया गया), 269, 188 और 34 के तहत दर्ज किया गया है।

प्राथमिकी के अनुसार, कैफे में कार्यक्रम बिना अनुमति के आयोजित किया गया था और किसी भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं किया गया था। इसमें कथित तौर पर धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए कथित रूप से अश्लील चुटकुले और भड़काऊ टिप्पणी की गई थी।

उप महानिरीक्षक हरिनारायणचारी मिश्रा ने कहा कि पांचों को प्राथमिकी के आधार पर गिरफ्तार किया गया। आरोपियों को शनिवार अदालत के सामने पेश किया गया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Police says Five stand up comedians held in MP over hurting religious sentiments