फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेश'मेरे गोद लिए गांव में लोग बेच देते हैं अपनी बेटियां', BJP सांसद प्रज्ञा सिंह के विवादित बोल; कांग्रेस ने उठाए सवाल

'मेरे गोद लिए गांव में लोग बेच देते हैं अपनी बेटियां', BJP सांसद प्रज्ञा सिंह के विवादित बोल; कांग्रेस ने उठाए सवाल

भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि मेरे गोद लिए गाव में ऐसी कुछ बस्तियां हैं जिनमे ऐसे लोग रहते हैं उनके पास ना पढ़ने का साधन है ना उनके माता-पिता के पास कमाई का साधन है।'

'मेरे गोद लिए गांव में लोग बेच देते हैं अपनी बेटियां', BJP सांसद प्रज्ञा सिंह के विवादित बोल; कांग्रेस ने उठाए सवाल
Swati Kumariलाइव हिंदुस्तान,भोपालMon, 19 Sep 2022 09:11 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें


भोपाल से भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। इस बयान के बाद पुलिस और प्रशासन और सरकार कटघरे में खड़ी होती दिखाई दे रही है। साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर के इस बयान के बाद मध्य प्रदेश की राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस ने सांसद के बयान को आधार बनाते हुए सरकार की योजनाओं और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान पर सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं।

दरअसल, भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि मेरे गोद लिए गाव में ऐसी कुछ बस्तियां हैं जिनमे ऐसे लोग रहते हैं उनके पास ना पढ़ने का साधन है ना उनके माता-पिता के पास कमाई का साधन है।' उन्होंने आगे कहा, 'मैंने उनको गोद लिया है। वो लोग कच्ची शराब बनाने और बेचने का काम करते हैं और उन्हें कभी कभी पुलिस पकड़कर ले जाती हैं। उनको छुड़वाने के लिए उन लोगों के पास पैसे नहीं होते हैं। तो वो अपनी मासूम बच्चियों को बेच देते हैं और फिर उससे वो अपने लोगों को छुड़वाते हैं।'

इसके बाद कांग्रेस ने सांसद के बयान को आधार बनाते हुए सरकार की योजनाओं और बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान पर सवालिया निशान खड़े कर दिए हैं। कांग्रेस मीडिया विभाग की उपाध्यक्ष संगीता शर्मा ने कहा, 'भारतीय जनता पार्टी की सांसद खुद उनकी सरकार के 18 साल के काम और उनके दावों की पोल खोल रही हैं। सांसद ने सरकार के बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान की पोल खोल दी।'

संगीता शर्मा ने आगे कहा, 'सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने बयान से पता चलता है कि तीन बस्तियों को उन्होंने गोद ले रखा है। उन बस्तियों में लोगों के पास न खाने का पैसा है। न शिक्षा का कोई साधन है। वह कच्ची शराब बनाकर बेचते हैं और उसके बाद जब पुलिस पकड़ लेती है। तो उनकी 4, 5, 6 साल की बच्चियों को बेचकर उन्हें अपने लोगों को छुड़वाते हैं, यह बहुत ही दुखद है।'

epaper