DA Image
Monday, November 29, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशखेल खराब करने में लगी है कांग्रेस, कुछ इस तरह खोल रही है शिवराज सरकार की पोल

खेल खराब करने में लगी है कांग्रेस, कुछ इस तरह खोल रही है शिवराज सरकार की पोल

भोपाल, लाइव हिंदुस्तानRavindra Kailasiya
Sun, 14 Nov 2021 06:32 PM
खेल खराब करने में लगी है कांग्रेस, कुछ इस तरह खोल रही है शिवराज सरकार की पोल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दौरे में आदिवासियों को लुभाने के लिए आयोजित जनजातीय गौरव दिवस में जहां भाजपा व शिवराज सरकार अनुसूचित जनजाति के लिए पलक पांवड़े बिछाए इंतजार कर रही है तो वहीं विपक्षी दल कांग्रेस के हाथ शिवराज सरकार की पोल-खोलने का मौका मिल गया है। पीएम के दौरे के बहाने कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ ने नरेंद्र मोदी को खुला पत्र लिखकर शि्वराज सरकार के 17 साल के सुशासन व विकास की कथित विफलता की कहानी बताई है तो पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मोदी से आदिवासियों पर हो रहे अत्याचार के बारे में सही स्थिति बताने की अपील की है। 

जनजातीय गौरव दिवस के आयोजन को लेकर भाजपा और प्रदेश की शिवराज सरकार यहां आने वाले आदिवासियों के स्वागत सत्कार में कोई कमी नहीं छोड़ना चाहती। उन्हें प्रभावित करने के लिए जहां भाजपा ने रातों-रात शनिवार को हबीबगंज स्टेशन का नाम रानी कमलापति रेलवे स्टेशन कर दिया है तो रविवार को राजा संग्राम शाह की स्मृति में पांच लाख के पुरस्कार का ऐलान किया है। वहीं, छिंदवाड़ा विवि का नाम राजा शंकर शाह के नाम करने की जानकारी दी गई। यही नहीं कार्यक्रम में आने वाले आदिवासियों को पार्टी को उनका सही हितैषी जताने के लिए मंच से लेकर सभास्थल में लगे पोस्टर में केवल और केवल अनुसूचित जनजाति के योद्धाओं व  नेताओं को महत्व दिया जा रहा है। 

कमलनाथ का पीएम को खुला पत्र 
वहीं, कांग्रेस इस मौके को शिवराज सरकार की कथित नाकामियों को गिनाने में लगी है। पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम खुला पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने शिवराज की 17 साल की सरकार की पोल खोलने का दावा किया। उन्होंने कहा कि इन सालों में किसान की आत्महत्या, बेरोजगारी, गरीबी के कारण लोगों की आत्महत्या, कुपोषण, शिशु मृत्युदर, भ्रष्टाचार, अवैध उत्खनन, महिलाओं पर बढ़ते अत्याचार, आदिवासी वर्ग पर उत्पीड़न, बाल अपराधों में बदतर स्थिति में मध्प प्रदेश पहुंच गया है। कमलनाथ ने कहा कि नेमावर, खरगोन, नीमच, डबरा, बालाघाट सहित आदिवासियों पर अत्याचार और उत्पीड़न की घटनाएं शिवराज सरकार में बढी हैं। आदिवासियों की चिंता करने का दावे को गलत बताते हुए कहा कि विश्व आदिवासी दिवस पर घोषित अवकाश वापस लेना कहां कि चिंता है। 

दिग्विजय ने आदिवासियों पर अत्याचार गिनाए
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने भाजपा के जनजातीय गौरव दिवस में आ रहे प्रधानमंत्री मोदी को कहा है कि प्रदेश में आदिवासियों पर अत्याचार हो रहे हैं। उन्होंने पीएम को कहा है कि जिस जनजातीय गौरव दिवस कार्यक्रम में वे आ रहे हैं उसमें आदिवासी उप योजना का पैसा खर्च हो रहा है जो वास्तव में आदिवासी संस्कृति के विकास  व देव स्थानों पर सामाजिक कार्यक्रमों पर खर्च होना चाहिए। दिग्विजय ने कहा कि आदिवासियों पर अत्याचार के मामलों राज्य की स्थिति का अंदाज राष्ट्रीय क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों से लगाया जा सकता है। 2020 में ही 2401 आदिवासियों पर अत्याचार के मामलै दर्ज हुए थे। सिंह ने पीएम से कहा है कि उन्हें झाबुआ, पन्ना, नीमच और अजयगढ़ में आदिवासियों पर हुए अत्याचार की घटनाओं के बारे में अपने भाषण में कुछ बात करना चाहिए। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाया कि शिवराज सरकार में आदिवासियों पर अत्याचार की घटनाओं में भाजपा के कार्यकर्ता भी शामिल रहे हैं।  

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें