फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशMP भाजपा के लिए प्रचार करने पर मुस्लिम पति नाराज, पत्नी को दे दिया तीन तलाक

MP भाजपा के लिए प्रचार करने पर मुस्लिम पति नाराज, पत्नी को दे दिया तीन तलाक

मध्य प्रदेश में मुस्लिम पति द्वारा महिला को तीन तलाक देने का मामला सामने आया है। महिला ने पति पर आरोप लगाया है कि उसने भाजपा जॉइन की थी, जिससे नाराज होकर पति ने उसे तलाक दे दिया है।

MP भाजपा के लिए प्रचार करने पर मुस्लिम पति नाराज, पत्नी को दे दिया तीन तलाक
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,उज्जैनMon, 24 Jun 2024 06:47 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में मुस्लिम महिला के भाजपा की सदस्यता लेने और चुनाव प्रचार करने से पति इतना नाराज हो गया कि पत्नी से मारपीट करने के बाद तीन बार तलाक बोलकर तलाक दे दिया। ये आरोप एक मुस्लिम महिला ने पुलिस को शिकायत तकचे हुए लगाया है। साथ ही पत्नी ने 5 लाख रुपये दहेज में मांगने का भी आरोप ससुराल पक्ष पर लगाया  है। पुलिस ने महिला की शिकायत पर पति समेत सास और ननद पर मामला दज कर लिया है। पुलिस मामले में छानबीन के बाद आरोपियों को हिरासत में लिया। फिलहाल पूछताछ चल रही है।

प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री से प्रभावित
मामल मध्य प्रदेश के छिंदवाड़ा जिले की कोतवाली थाना क्षेत्र के रॉयल चौक का है। महिला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव से प्रभावित होकर उसने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण की थी। लोकसभा चुनाव में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार के लिए प्राचर किया और उसी को अपना वोट दिया था। यह बात मेरे पति, सास और ननद को पता लगने पर वह मेरे घर आए और मारपीट करने के बाद पति ने तीन तलाक कहकर उसने रिश्ता तोड़ लिया। इशरत का कहना है कि उसके पति ने फरवरी-मार्च के समय कोर्ट का नोटिस भेजा था, लेकिन उसने नहीं लिया। इसके बाद वकील के जरिए मैंने जवाब दिया था।

इशरत शेख ने पुलिस से शिकायत दर्ज करवाते हुए बताया कि उसकी शादी अब्दुल आसिफ मंसूरी से 2015 हुई थी। निकाह के कुछ महीने बाद उसे पता चला कि आसिफ का पहले भी निकाह हो चुका था और उसका एक बेटा भी है। महिला ने बताया कि इस दौरान मैं प्रेग्नेंट थी, इसलिए मैं सब कुछ भूल गई। इस दौरान इशरत से निकाह होने के बाद मेरा एक बेटा भी हुआ। शादी के बाद से पति, सास और चार ननद मायके से दहेज में पांच लाख रुपए लाने का दबाव बना रही थीं। नहीं लाने पर शारीरिक और मानसिक रूप से प्रताड़ित कर रहे थे। महिला ने बताया कि उसे घर से भी निकाल दिया गया था। इसलिए वह बेटे के साथ किराए के मकान में रह रही है। इस दौरान पति अब्दुल आसिफ मंसूरी उसके किराए के मकान पर पहुंचा और उसके साथ मारपीट कर तीन तलाक बोलकर रिश्ता तोड़ दिया है।

इशरत शेख ने पुलिस को दी शिकायत में बताया है कि हमेशा कांग्रेस को वोट देती थी लेकिन इस बार भाजपा को वोट किया तो पति, सास और ननद नाराज हो गए और कहने लगे की तुम्हें भाजपा को वोट नहीं देना था। भाजपा को वोट देना इस्लाम के खिलाफ है। मुस्लिम हमेशा कांग्रेस को वोट देते हैं। मैंने हमेशा कांग्रेस को वोट दिया, इस बार भाजपा को दिया। महिला ने कहा कि मैंने भाजपा भी  ज्वाइन कर ली। इसी कारण उन्होंने मेरे साथ मारपीट कर तलाक दे दिया। 

कोतवाली थाना प्रभारी उमेश गोल्हानी का कहना है कि महिला की शिकायत पर तीन तलाक और दहेज प्रताड़ना का मामला दर्ज किया गया है। इनका कोर्ट में भी तलाक का मामला चल रहा है। महिला ने पति पर मारपीट, रुपए मांगने सहित मौखिक रूप से तलाक देने की शिकायत की थी। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने अब्दुल आसिफ मंसूरी, सास और चार ननद के खिलाफ धारा 498 ए, 294, 34, दहेज अधिनियम की धारा 3/4 और मुस्लिम महिला विवाह पर अधिकार का संरक्षण अधिनियम की धारा 2019 की धारा 4 के तहत मामला दर्ज किया है।

रिपोर्ट: विजेन्द्र यादव