DA Image
Sunday, November 28, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशबेटी ने पुलिस को आंखो-देखा मर्डर बताया, पुलिस ने पिता को किया गिरफ्तार

बेटी ने पुलिस को आंखो-देखा मर्डर बताया, पुलिस ने पिता को किया गिरफ्तार

भोपाल, लाइव हिंदुस्तानRavindra Kailasiya
Thu, 28 Oct 2021 01:17 PM
बेटी ने पुलिस को आंखो-देखा मर्डर बताया, पुलिस ने पिता को किया गिरफ्तार

बिना मां की एक किशोरी ने साहस जुटाकर अपने पिता के हत्या के अपराध का सच सामने लाकर उसे जेल भिजवा दिया है। मामला छिंदवाड़ा का है जहां पिपरिया घटोरी गांव में एक व्यक्ति ने एक दोस्त को शराब के पैसे के लेनदेन पर मार डाला और शव को घर के पास जंगल में दफना दिया था। बेटी के सामने उसने घटना को अंजाम दिया लेकिन किशोरी ने साहस कर हत्या को पुलिस के सामने खोलकर रख दिया।

पुलिस अधीक्षक विवेक अग्रवाल ने बताया कि सिंगोड़ी के पास घाट पिपरिया घटोरी में कन्हैया बारसिया अपनी 13 साल की बेटी और छोटे बेटे के साथ रहता है। उसकी पहली पत्नी का निधन हो चुका है और दूसरी पत्नी शराब पीने की आदत की वजह से छोड़कर जा चुकी है। बेटी और बेटा उसकी पहली पत्नी की संतान हैं। तीन दिन पहले कन्हैया बारसिया अपने दोस्त अजय वर्मा के साथ शराब पीकर आया था और घर पर ही खाना बनवाया था। 

बेटी खाना बना रही थी कि दोस्तों में झगड़ा हो गया
किशोर बेटी पिता व उनके दोस्त के लिए खाना बनाने गई थी कि उसी दौरान दोनों का विवाद हो गया। कन्हैया ने दोस्त से शराब के पैसे मांगे तो उसने मना कर दिया। नशे में दोनों के बीच विवाद इतना बढ़ गया कि कन्हैया ने बरछी (धारदार हथियार) से दोस्त पर हमला कर दिया। उसकी मौत हो जाने पर शव को घर के पास जंगल में ले गया और गड्ढा खोदकर दफन कर दिया। 

बेटी को धमकी देकर चुप किया
कन्हैया बारसिया ने दोस्त की हत्या के बाद बेटी को धमकाया कि अगर उसने किसी को भी इसके बारे में बताया तो उसे व उसके भाई को मार डालेगा। मगर किशोरी बेटी ने हिम्मत कर एक बच्चे के साथ सिंगोड़ी पुलिस चौकी के प्रभारी अभिषेक प्यासी के पास पहुंचकर पूरा घटनाक्रम बताया तो उन्होंने वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी जानकारी दी। एसडीओपी संतोष डेहरिया व अमरवाड़ा टीआई मोहन मर्सकोले ने तुरंत घटनास्थल घाट पिपरिया पहुंचकर कन्हैया बारसिया को हिरासत में लिया।

पहले गुमराह किया, फिर स्वीकारा
हिरासत में लिए जाने के बाद कन्हैया बारसिया ने पुलिस को गुमराह किया लेकिन जब उसकी बेटी ने उसके सामने ही पूरी कहानी बताई तो उसने घटना स्वीकारी। बाद में वह पुलिस को शव को दफनाये गए स्थान पर ले गया जहां खुदाई के बाद शव को बाहर निकाला गया। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें