फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशMP में सिविल सेवा परीक्षा का फर्जी पर्चा टेलीग्राम पर बेचने की कोशिश, अज्ञात पर FIR दर्ज

MP में सिविल सेवा परीक्षा का फर्जी पर्चा टेलीग्राम पर बेचने की कोशिश, अज्ञात पर FIR दर्ज

मध्य प्रदेश में सिविल सेवा परीक्षा का फर्जी प्रश्नपत्र टेलीग्राम पर बेचने के प्रयास का मामला सामने आया है। अज्ञात आरोपी द्वारा इस फर्जी प्रश्नपत्र को 2,500 रुपये में बेचे जाने की कोशिश की गई थी।

MP में सिविल सेवा परीक्षा का फर्जी पर्चा टेलीग्राम पर बेचने की कोशिश, अज्ञात पर FIR दर्ज
symbolic image
Praveen Sharmaइंदौर। भाषाMon, 24 Jun 2024 02:03 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में सिविल सेवा परीक्षा के प्रारंभिक दौर का एक फर्जी प्रश्नपत्र को सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टेलीग्राम पर बेचने के प्रयास का मामला सामने आया है। पुलिस ने मामला संज्ञान में आने के बाद अज्ञात व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। अज्ञात आरोपी द्वारा इस फर्जी प्रश्नपत्र को 2,500 रुपये में बेचे जाने की कोशिश की गई थी।

संयोगितागंज थाने के एक अधिकारी ने बताया कि मध्य प्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) के सतर्कता अधिकारी की शिकायत पर अज्ञात आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड विधान और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के संबद्ध प्रावधानों के तहत रविवार रात मामला दर्ज किया गया।

राज्य सेवा परीक्षा के एक उम्मीदवार ने बताया कि पर्चा लीक होने की अफवाहों की शुरुआत सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म टेलीग्राम पर बनाए गए एक अकाउंट के कारण हुई थी। उस टेलीग्राम अकाउंट पर ऐसा दावा किया गया था कि एमपीपीएससी के प्रश्नपत्र 2,500-2,500 रुपये में बिकाऊ हैं। उम्मीदवार ने बताया कि इस टेलीग्राम अकाउंट पर पेमेंट के लिए एक क्यूआर कोड भी दिया गया था।

एमपीपीएससी के विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) रवींद्र पंचभाई ने बताया, "सोशल मीडिया पर दो दिन पहले 'सामान्य अध्ययन' विषय का पर्चा लीक होने के झूठे दावे के साथ एक संदिग्ध प्रश्नपत्र वायरल किया गया था। हमने रविवार को आयोजित राज्य सेवा परीक्षा के प्रारंभिक दौर के इस विषय के मूल पर्चे से संदिग्ध प्रश्नपत्र का मिलान किया। नतीजतन सोशल मीडिया पर सामने आया प्रश्नपत्र फर्जी पाया गया।"

अधिकारियों ने बताया कि राज्य के 55 जिला मुख्यालयों में रविवार को आयोजित राज्य सेवा परीक्षा के प्रारंभिक दौर में बैठने के लिए 1.83 लाख उम्मीदवार पात्र थे।

उन्होंने बताया कि यह परीक्षा कुल 110 पदों पर भर्ती के लिए आयोजित की गई जिनमें उप जिलाधिकारी (डिप्टी कलेक्टर) के 15 पद और पुलिस उपाधीक्षक (डीएसपी) के 22 पद शामिल हैं।