फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशएमपी में क्यों हारी कांग्रेस? कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से 10 दिन के भीतर मांगी विस्तृत रिपोर्ट

एमपी में क्यों हारी कांग्रेस? कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से 10 दिन के भीतर मांगी विस्तृत रिपोर्ट

मध्य प्रदेश में कांग्रेस क्यों हार गई, इसको लेकर पार्टी के भीतर मंथन का दौर शुरू हो गया है। कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से 10 दिन के भीतर विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

एमपी में क्यों हारी कांग्रेस? कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से 10 दिन के भीतर मांगी विस्तृत रिपोर्ट
Krishna Singhवार्ता,नई दिल्लीTue, 05 Dec 2023 08:36 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव (Madhya Pradesh Election Result 2023) में करारी हार के बाद आज कांग्रेस द्वारा सभी अधिकृत प्रत्याशियों की बैठक बुलाई गई, जिसमें कमलनाथ ने सभी प्रत्याशियों से चुनाव और संगठन को लेकर अलग-अलग दो रिपोर्ट मांगी हैं। वहीं पार्टी की करारी हार के बाद नेतृत्व परिवर्तन को लेकर चल रही अटकलों के बीच प्रत्याशियों की बैठक के बाद सभी उम्मीदवारों और विधायकों ने कमलनाथ के नेतृत्व पर आस्था जताई।

पार्टी की ओर से साझा की गई जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस की समीक्षा बैठक प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह समेत कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में संपन्न हुई। कमलनाथ ने बैठक में कहा कि साल 1977 में कांग्रेस इससे भी बुरी तरह से हारी थी, उस समय श्रीमती इंदिरा गांधी और संजय गांधी जैसे देश के शीर्ष नेता भी चुनाव हारे थे। पूरा माहौल कांग्रेस के खिलाफ लगता था, लेकिन सभी एकजुट हुये और मैदान में आये। 

कमलनाथ ने कहा कि तीन साल बाद हुए चुनाव में 300 से अधिक सीटों के साथ इंदिरा गांधी ने पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। उन्होंने प्रत्याशियों का मनोबल बढ़ाते हुए कहा कि इसी तरह अब भी कांग्रेस को चार महीने बाद होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुट जाना है। पूरी ताकत के साथ केंद्र में अपनी सरकार बनाना है। 

कमलनाथ ने कहा कि सभी प्रत्याशी और विधायक अपने चुनाव की पूरी समीक्षा करें और अगले दस दिन के अंदर दो अलग-अलग रिपोर्ट भेजें। एक रिपोर्ट में चुनाव का विश्लेषण और दूसरी रिपोर्ट में संगठन की समीक्षा गुप्त रूप से भेजी जाए। उन्होंने कहा कि वे जल्दी ही पूरे प्रदेश का दौरा करेंगे और लोकसभा चुनाव की तैयारी में पूरी पार्टी जुट जाएगी।

प्रत्याशियों ने आरोप लगाया कि जब डाक मतपत्र में कांग्रेस को प्रचंड बहुमत मिल रहा था तो मशीन में अचानक से कम हो जाना संदेह पैदा करता है। कमलनाथ ने कहा कि ईवीएम को लेकर उन्हें बहुत सी शिकायतें मिली हैं। हम इस मुद्दे को राष्ट्रीय नेतृत्व के समक्ष उठाएंगे। बैठक में पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश पचौरी, कांतिलाल भूरिया, अजय सिंह, डॉ. गोविंद सिंह, सज्जन सिंह वर्मा, कमलेश्वर पटेल, रामनिवास रावत, औंकार मरकाम सहित कांग्रेस के सभी जीते हुए विधायक और प्रत्याशी मौजूद थे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें