फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशठगों के निशाने पर हाई कोर्ट के जज, फर्जी ID बनाकर रिश्तेदारों से मांगे पैसे; MP पुलिस का ऐक्शन

ठगों के निशाने पर हाई कोर्ट के जज, फर्जी ID बनाकर रिश्तेदारों से मांगे पैसे; MP पुलिस का ऐक्शन

मध्य प्रदेश में ठगी के नए तरीकों को अपनाते हुए ठगों ने हाई कोर्ट के जज को भी निशाने पर ले लिया। ठगों ने जज की फोटो लगाकर उनके रिश्तेदारों से पैसे मांगे। मामला खुलने के बाद एमपी पुलिस ने ऐक्शन लिया है।

ठगों के निशाने पर हाई कोर्ट के जज, फर्जी ID बनाकर रिश्तेदारों से मांगे पैसे; MP पुलिस का ऐक्शन
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,ग्वालियरMon, 24 Jun 2024 06:16 PM
ऐप पर पढ़ें

ग्वालियर में हाई कोर्ट जज के नाम से व्हाट्सएप पर फेक आईडी बनाने और लोगों से पैसे मांगने का मामला सामने आया है। हाई कोर्ट जज के फोटो लगी उनके ही नंबर जैसी आईडी से ठग ने उनके परिचित और कुछ पूर्व कर्मचारियों को मैसेज कर इमरजेंसी में मदद की मांग की। जज को इस बात का पता तब चला जब उनके एक कर्मचारी ने उन्हें फोन कर बताया। यह सुनकर जज ऐक्शन में आए। बाद में ठगी के शिकार होते होते बचे अन्य लोगों का भी पता चला। ठगी का पता चलने पर हाईकोर्ट जज ने एडीपीओ को भेजकर ग्वालियर एसपी से इसकी लिखित आवेदन देकर शिकायत की। एसपी ने एडीपीओ की शिकायत पर क्राइम ब्रांच प्रभारी को कार्रवाई करने के लिए निर्देशित किया था। एसपी के निर्देश पर क्राइम ब्रांच प्रभारी ने अज्ञात ठगों के खिलाफ मामला दर्ज कर उसकी तलाश शुरू कर दी है।

बता दें कि ऑनलाइन ठगी करने वाले शातिर ठगों ने पूरे देश में अपनी ठगी का जाल फैला रखा है। देश की बड़ी-बड़ी हस्तियों के नाम से फेक आईडी बनाकर ठगी की घटनाएं कई बार हो चुकी हैं। ठग हर बार किसी न किसी नए तरीकों का इस्तेमाल करते हुए ठगी की वारदात करते रहते हैं। लेकिन गुमनाम ठगों ने इस बार हाईकोर्ट जज संजीव एस कालगाँवकर मध्य प्रदेश हाई कोर्ट खण्डपीठ ग्वालियर का इस्तेमाल किया।व्हाट्सएप पर उनका फोटो और नाम लिखकर एक मोबाइल नंबर से फेक व्हाट्सएप ID जनरेट कर उनके परिचित कर्मचारियों से पैसे मांगे। ठग और लोगों को मैसेज कर पैसे नहीं मांग पाए, इसलिए उन्होंने तत्काल 23 जून रविवार को एडीपीओ दीपक मिश्रा को क्राइम ब्रांच थाने भेजा। पुलिस को पूरा मामला बताया। पुलिस ने दीपक की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया है।

पूर्व अतिरिक्त महाअधिवक्ता की बनी थी फर्जी आईडी 
इससे पहले पूर्व अतिरिक्त महाअधिवक्ता एमपीएस रघुवंशी की भी इसी तरह फर्ज आईडी बनाकर लोगों से मांग की थी, जिसकी शिकायत साइबर सेल से हुई थी, लेकिन इस मामले में अभी तक कोई भी आरोपी पकड़े नहीं गए है।इस मामले में क्राइम ब्रांच प्रभारी अजय पवार का कहना है कि ठग द्वारा हाईकोर्ट न्यायाधिपति के नाम से फेक व्हाट्सएप आईडी बनाकर लोगों से ठगी करने का मामला सामने आया है।उसने कई और लोगों को मैसेज भेजकर पैसों की मांग की गई है।फिलहाल क्राइम ब्रांच थाने मे FIR दर्ज कर ली गई है।आरोपी के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।