फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेश15 साल का गढ़ नहीं संभाल पाए गृहमंत्री, सियासी झटके के बाद नरोत्तम मिश्र को याद आई ये कविता

15 साल का गढ़ नहीं संभाल पाए गृहमंत्री, सियासी झटके के बाद नरोत्तम मिश्र को याद आई ये कविता

MP Election: चुनाव में हार पर टिप्पणी करते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र ने कविता याद करते हुए कहा कि मैं शांत बैठने वाला नहीं हूं, जल्द ही वापस आऊंगा। उन्होंने कहा,''जनादेश का पूर्ण सम्मान करता हूं।

15 साल का गढ़ नहीं संभाल पाए गृहमंत्री, सियासी झटके के बाद नरोत्तम मिश्र को याद आई ये कविता
Abhishek Mishraलाइव हिन्दुस्तान,दतियाMon, 04 Dec 2023 03:02 PM
ऐप पर पढ़ें

MP Election Results: मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव में भाजपा को बंपर जीत मिली है। प्रचंड लहर के बावजूद कई कद्दावर नेताओं को मुंह की खानी पड़ी है। सूबे के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्र अपना 15 साल पुराना गढ़ बचाने में नाकाम रहे। दतिया सीट पर उन्हें शिकस्त का सामना करना पड़ा है। हार के बाद नरोत्तम मिश्र आज मीडिया से मुखातिब हुए। गृहमंत्री ने कविता सुनाते हुए फिर से लौट कर आने वादा किया है।

गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्र ने कहा कि 'क्या हार में क्या जीत में किंचित नहीं भयभीत मैं, कर्म पथ पर जो भी मिला यह भी सही वह भी सही'। उन्होंने कहा,''मैं लौटकर आउंगा ये वादा है। उन्होंने भाजपा कार्यालय में कार्यकर्ताओं से मुलाकात कर दतिया की जनता का आभार व्यक्त किया है।''

आगे उन्होंने कहा,''मैं दतिया की जनता को प्रणाम करता हूं। उनके सहयोग के लिए ग्रामीण और शहर की जनता का आभार व्यक्त करता हूं। किसी ने कहा है न क्या हार में क्या जीत मैं किंचित नहीं भयभीत में, कर्म पथ पर जो भी मिला यह भी सही वह भी सही। देखिए जनादेश को हमेशा माथे पर लेना चाहिए और जनता का निर्णय हमेशा सही होता है। हो सकता है कि जनता की नजर में हम सही विकास नहीं कर पाए हो और इसलिए आने वाले को अवसर देना चाहिए की वो हम अच्छा काम कर सके।"

गृहमंत्री ने कहा,''जनता को ऐसा सोचना होगा कि हम जनता की सेवा शायद अच्छी न कर पाए हो। कही न कही कोई का कोई त्रुटि तो होती है हमसे, हमें इस समीक्षा करनी चाहिए।इतना जरूर में आपके सबको आश्वस्त करना चाहता हूं सरकार आपकी है ललकार आपकी है और दरकार भी आपकी है। किसी भ्रम में मत आ जाना समुद्र का पानी उतरता देखकर किनारे पर घर मत बना लेना, मैं लौटकर आउंगा ये वादा है।मैं ज्यादा देर तक शांत रहने वाला जीव नहीं हूं, लेकिन उनको अवसर जरूर देना चाहिए।"

गौरतलब है कि दतिया से गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा कांग्रेस के राजेंद्र भारती से 7,742 वोटों से हार गए। भारती तीसरी बार नरोत्तम के खिलाफ मैदान में थे। कांग्रेस ने यहां पहले भाजपा से आए अवधेश नायक को टिकट दिया था, लेकिन बाद में बदलकर भारती को ही उतारा। नायक और भारती दोनों मिलकर लड़े।भारती को सहानुभूति मिली।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें