फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशप्रत्याशी का नामांकन करने का आलग अंदाज, गधे पर सवार हो पहुंचा निर्वाचन ऑफिस, बताई वजह

प्रत्याशी का नामांकन करने का आलग अंदाज, गधे पर सवार हो पहुंचा निर्वाचन ऑफिस, बताई वजह

मध्य प्रदेश में प्रत्याशियों की नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। ऐसे में बुरहानपुर से एक निर्दलीय उम्मीदवार ने गधे पर बैठकर अपना नामांकन फॉर्म जमा किया है। एक रोचक वीडियो सामने आया है।

प्रत्याशी का नामांकन करने का आलग अंदाज, गधे पर सवार हो पहुंचा निर्वाचन ऑफिस, बताई वजह
Mohammad Azamलाइव हिंदुस्तान,बुरहानपुरThu, 26 Oct 2023 05:08 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में प्रत्याशियों की नामांकन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। ऐसे में बुरहानपुर से एक निर्दलीय उम्मीदवार ने गधे पर बैठकर अपना नामांकन फॉर्म जमा किया है। निर्दलीय उम्मीदवार प्रियांक का कहना है कि उनके क्षेत्र के दो ही परिवारों को राजनीतिक दल तवज्जो देते हैं। ऐसे में वह निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर चुनाव लड़ेंगे और जीतकर लोगों की सेवा करेंगे। बताया जा रहा है कि निर्दलीय उम्मीदवार हिंदू संगठन में पदाधिकारी भी हैं। 

दरअसल 1967 में आई फिल्म मेहरबान की तर्ज पर निर्दलीय उम्मीदवार प्रियांक सिंह भी गधे पर बैठकर अपना नामांकन जमा करने पहुंचे। बता दें कि  मेहरबान फिल्म में अभिनेता महमूद पर फिल्माया गया गाना 'मेरा गधा गधों का लीडर' काफी मशहूर हुआ था।

बुरहानपुर विधानसभा सीट से निर्दलीय चुनाव लड़ रहे ठाकुर प्रियांक सिंह गधे पर बैठकर निर्वाचन कार्यलय पहुंचे और रिटर्निंग ऑफिसर के पास जाकर अपना नामांकन जमा किया। इस दौरान उनके साथ उनके समर्थक भी मौजूद थे। निर्दलीय प्रत्याशी प्रियांक सिंह ने गधे पर बैठकर ही रैली भी निकाली इस दौरान जहां से भी वह निकले तो लोग उनको देखते ही रहे। उनका इस तरह गधे पर बैठकर नामांकन जमा करना अब शहर में चर्चा का विषय बना हुआ है। 

बुरहानपुर में कांग्रेस ने निर्दलीय चुनाव जीते सुरेंद्र सिंह शेरा को इस बार प्रत्याशी बनाया है। जबकि बीजेपी ने पूर्व मंत्री अर्चना चिटनिस को फिर से मैदान में उतारा है। इस सीट पर बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही दलों में बगावत देखने को मिल रही है। बीजेपी के पूर्व सांसद रहे स्वर्गीय नंदकुमार सिंह चौहान के बेटे हर्षवर्धन सिंह चौहान ने निर्दलीय चुनाव लड़ने की तैयारी कर ली है, जबकि कांग्रेस में भी बगावत दिख रही है।

इधर गधे पर बैठकर अपना नामांकन फार्म जमा करने पहुंचे ठाकुर प्रियांश ने मीडिया को बताया कि वे गधे पर बैठकर इसलिए नामांकन जमा करने आए हैं, क्योंकि बुरहानपुर के दो-तीन परिवारों ने जनता को गधा बनाने का काम किया है । वह लगातार क्षेत्र की जनता के वोट ले रहे हैं, लेकिन विकास उनके अपने घरों पर हो रहा है। प्रियांक ने कहा कि उन्हीं के बंगले और प्रॉपर्टी बन रही हैं । जिस वजह से आम मतदाता गधा बन रहा है, इसलिए उन्होंने इस तरह का विरोध प्रदर्शन किया है।

 

इनपुट: निशात मोहम्मद सिद्दीकी

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें