फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशMP Crime: कैमरे पर स्प्रे डाल तोड़ा एटीएम लेकिन मिले केवल 9 हजार, इंदौर में लूट

MP Crime: कैमरे पर स्प्रे डाल तोड़ा एटीएम लेकिन मिले केवल 9 हजार, इंदौर में लूट

इंदौर में बदमाशों ने एक एटीएम को निशाना बनाया। चोरों को वारदात के बाद निराशा ही हाथ लगी क्योंकि एटीएम में मात्र 9 हजार रुपये ही थे। एटीएम में लगे कैमरे पर बदमाशों ने पहले ही स्प्रे कर दिया था। 

MP Crime: कैमरे पर स्प्रे डाल तोड़ा एटीएम लेकिन मिले केवल 9 हजार, इंदौर में लूट
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,इंदौरThu, 30 Nov 2023 04:03 PM
ऐप पर पढ़ें

इंदौर के धार रोड स्थित एक एटीएम को बदमाशों ऐना अपना निशाना बनाया। बदमाशों ने पहले एटीएम में लगे कैमरों पर स्प्रे किया उसके बाद एटीएम मशीन तोड़ी। चोरों को वारदात के बाद निराशा ही हाथ लगी क्योंकि एटीएम में मात्र 9 हजार रुपये ही थे। वारदात करने वाले बदमाश फरार हैं। वारदात के दो दिन बाद एटीएम संचालित करने वाले बैंक को लूट का पता चला। इसमें बाद बैंककर्मियों ने वारदात की सूचना चन्दन नगर थाने को दी। सूचना के बाद मौकर पर पुलिस पहुंची लेकिन एटीएम में लगे कैमरे पर बदमाशों ने पहले ही स्प्रे कर दिया था। 

पुलिस इलाके में लगे अन्य सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही है। एसीपी नंदिनी शर्मा ने बताया कि पुलिस को एटीएम में चोरी की वारदात की जानकारी बुधवार रात को मिली। जब धार रोड स्थित जवाहर टेकरी इलाके में लगे वन इण्डिया एटीएम में को इलाके में कुछ लोगो द्वारा एटीएम के दरवाजा खुले होने की सूचना पुलिस को दी गई। घटना की जानकारी मिलते ही एसीपी अपने स्टाफ के साथ मौके पर पहुंचीं। मौके पर एटीएम मशीन के नीचे का दरवाजा खुला था। पूछताछ में बैंक के अधिकारियों ने बताया कि 24 तारीख को बैंक ने एटीएम में साढ़े 4 लाख रुपये डाले थे। 

बैंक अधिकारियों ने बताया कि जब मशीन से कैश खत्म होता है तो sms आता है। इसके बाद एटीएम में कैश डाला जाता है। एटीएम में कैश कम होने की जानकारी भी बैंक अधिकारियो ने पुलिस को दी। पुलिस ने एटीएम से 9 हजार रुपये अज्ञात आरोपियों द्वारा निकाले जाने की बात कही गई है। 17 तारीख से एटीएम में लगे कैमरे बंद थे। एसीपी नंदिनी शर्मा ने बैंक अधिकारियों से कुछ तकनीकी जानकारी भी जुटाई है। इसमें पाया गया है कि एटीएम मशीन में लगे कई कैमरे 17 तारीख से ही बंद थे। 

24 तारीख को जब कैश डालने cms कंपनी आई तो उनके द्वारा एटीएम मशीन के नीचे का लॉक शायद ठीक ने नहीं लगा होगा। जब भी मशीन खाली होती है तो वह वाइब्रेट करने लगती है। जब भी मशीन को खोला जाता है उसका एक ONE time password बैंक अधिकारी के पास जाता है। लेकिन 24 को  कैश डालने के बाद पासवर्ड नहीं आया। ना ही उस मशीन में कैश डाला गया। पुलिस का मानना था कि गलती से एटीएम का दरवाजा खुल गया हो। लेकिन कैमरे पर डाले गए स्प्रे से संदेह पैदा हुआ। 

रिपोर्ट - हेमंत नागले

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें