फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशMP के बच्चों को अब हफ्ते में एक दिन बिना बैग के ही जाना होगा स्कूल, मोहन सरकार का बड़ा फैसला

MP के बच्चों को अब हफ्ते में एक दिन बिना बैग के ही जाना होगा स्कूल, मोहन सरकार का बड़ा फैसला

Bag less school: हर हफ्ते एक दिन 'बैग लेस स्कूल' मनाया जाएगा। यह निर्णय छात्रों के तनाव को कम करने के लिए लिया गया है। यह राज्य में संचालित सभी सरकारी और निजी स्कूलों पर लागू होगा।

MP के बच्चों को अब हफ्ते में एक दिन बिना बैग के ही जाना होगा स्कूल, मोहन सरकार का बड़ा फैसला
Devesh Mishraएएनआई,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 03:30 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश सरकार ने स्कूली बच्चों के लिए एक बड़ा ऐलान किया है। अब एमपी में हफ्ते में एक दिन बच्चों को बिना बैग के ही स्कूल जाना होगा। जी हां... यह फैसला आगामी नए शैक्षणिक सत्र (2024-25) से कक्षा एक से बारहवीं तक के बच्चों पर लागू होगा। हर हफ्ते एक दिन 'बैग लेस स्कूल' मनाया जाएगा। यह निर्णय छात्रों के तनाव को कम करने के लिए लिया गया है। यह राज्य में संचालित सभी सरकारी और निजी स्कूलों पर लागू होगा। राज्य सरकार ने इसके लिए एक नोटिस भी जारी किया है जिसमें छात्रों की कक्षाओं के अनुसार उनके बैग का वजन भी तय किया है।

बैग का वजन भी किया गया तय
नोटिस के मुताबिक, कक्षा 1 और 2 के छात्रों के लिए स्कूल बैग का अधिकतम वजन 1.6 से 2.2 किलोग्राम होगा। इसी तरह कक्षा 3 से 5वीं के लिए 1.7 से 2.5 किलोग्राम, कक्षा 6वीं और 7वीं के लिए 2 से 3 किलोग्राम, कक्षा 8वीं के लिए 2.5 से 4 किलोग्राम और कक्षा 9वीं और 10वीं के छात्रों के लिए 2.5 से 4.5 किलोग्राम वजन होगा। इसके अलावा, 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्कूल बैग का वजन स्कूल प्रबंधन समिति द्वारा छात्रों की स्ट्रीम के अनुसार तय किया जाएगा।

मध्य प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री उदय प्रताप सिंह ने एएनआई को बताया, 'बैग के बोझ के चलते स्कूली छात्रों के तनाव को कम करने के लिए हमने यह फैसला लिया है। छोटे बच्चों के बैग का वजन अब 2.2 किलोग्राम और बड़े छात्रों के बैग का वजन 4.5 किलोग्राम होगा। वहीं हफ्ते में एक दिन 'बैग लेस स्कूल' चलाया जाएगा।'

बैग लेस स्कूल वाले दिन क्या होगा?
स्कूल शिक्षा मंत्री ने बताया कि 'बैग लेस स्कूल का मतलब यह है कि बच्चे उस दिन एन्जॉय करें। वे स्कूल में खेल, सांस्कृतिक कार्यक्रमों, संगीत आदि का आनंद लें। छात्रों को इस तरह से व्यस्त रखा जाना चाहिए कि स्कूल उन्हें तनाव का विषय न लगे बल्कि स्कूल जाना उनके लिए खुशी की बात हो। हमने छात्रों के तनाव को दूर करने के लिए इस दिशा में यह पहल की है। नए शैक्षणिक सत्र (2024-25) से स्कूल बैग नीति का सख्ती से पालन करने के निर्देश जारी किए गए हैं।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें