फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशनरेंद्र सिंह तोमर होंगे एमपी के नए विधानसभा अध्यक्ष, उनके बारे में 5 बातें

नरेंद्र सिंह तोमर होंगे एमपी के नए विधानसभा अध्यक्ष, उनके बारे में 5 बातें

भाजपा ने सोमवार को वरिष्ठ नेता नरेंद्र सिंह तोमर को मध्य प्रदेश विधानसभा का नया अध्यक्ष बनाया है। भाजपा के संकट मोचक नेताओं में शुमार एमपी के कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर के बारे में पांच बातें...

नरेंद्र सिंह तोमर होंगे एमपी के नए विधानसभा अध्यक्ष, उनके बारे में 5 बातें
Krishna Singhलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीMon, 11 Dec 2023 09:32 PM
ऐप पर पढ़ें

भाजपा ने सोमवार को अपने वरिष्ठ नेता नरेंद्र सिंह तोमर को मध्य प्रदेश विधानसभा का नया अध्यक्ष नामित किया है। एमपी के कद्दावर नेता नरेंद्र सिंह तोमर भाजपा के संकट मोचक नेताओं में गिने जाते हैं। तोमर ने सूबे की सियासत में भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी के साथ कदम रखा था। नरेंद्र सिंह तोमर सूबे के उन तीन केंद्रीय मंत्रियों में शामिल रहे जिनको पार्टी ने विधानसभा के चुनावी मैदान में उतारा था। उन्होंने इन चुनावों में दिमनी सीट से अपने प्रतिद्वंद्वी बसपा के बलवीर सिंह दंडोतिया को 24,461 मतों से पराजित किया था।

1- 12 जून 1957 को ग्वालियर में जन्मे तोमर 1980 में ग्वालियर में भाजपा युवा मंच के अध्यक्ष बनाए गए थे। वह 1986 में भाजपा युवा मंच के उपाध्यक्ष बने। इसी साल तोमर को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया। 

2- नरेंद्र सिंह तोमर पहली बार 1998 में ग्वालियर विधानसभा सीट से विधायक चुने गए। इसके बाद पार्टी ने उनको 2003 के विधानसभा चुनावों में भी टिकट दिया था। उन्होंने उमा भारती और बाबूलाल गौर के नेतृत्व वाली भाजपा सरकारों में कैबिनेट मंत्री के रूप में कार्य किया।

3- साल 2006 में उनको पार्टी ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जिसे उन्होंने 2010 तक बखूबी निभाया। साल 2012 में पार्टी ने फिर उनको प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की जिम्मेदारी सौंपी जिसके बाद 2014 तक वह इस पद पर रहे। 

4- तोमर 2009 में राज्यसभा सदस्य के तौर पर चुनकर संसद पहुंचे। इसी साल लोकसभा के लिए चुने जाने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया।

5- साल 2008 में पार्टी ने नरेंद्र सिंह तोमर को मुरैना संसदीय सीट से चुनाव मैदान में उतारा। पार्टी ने उन्हें फिर 2014 में ग्वालियर संसदीय सीट से मौका दिया। इसके बाद वह सांसद के तौर पर लोकसभा के लिए चुने गए। इसके बाद मोदी सरकार ने उन्हें कैबिनेट मंत्री बनाया।

हर परीक्षा में सफल
साल 2019 के लोकसभा चुनाव में फिर नरेंद्र तोमर के सियासी कद की परीक्षा हुई। तोमर की सीट बदल दी गई। पार्टी ने उनको मुरैना संसदीय सीट से टिकट दिया। वह एकबार फिर विजयी रहे। नतीजतन मोदी सरकार में उनका मंत्री पद बरकरार रहा। तोमर पीएम मोदी के नेतृत्व वाली सरकार में इस्पात, खान, श्रम, रोजगार पंचायती राज, ग्रामीण विकास और पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाल चुके हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें