फोटो गैलरी

Hindi News मध्य प्रदेशएमपी के मंत्रियों ने तोड़ा भरोसा, 10 से अधिक हार गए चुनाव, कहां से किसे मिली शिकस्त?

एमपी के मंत्रियों ने तोड़ा भरोसा, 10 से अधिक हार गए चुनाव, कहां से किसे मिली शिकस्त?

mp assembly election result 2023: भाजपा मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव दो तिहाई बहुमत के साथ जीत लिया है। लेकिन नरोत्तम मिश्र समेत शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल के 10 से अधिक मंत्री चुनाव हार गए हैं।

एमपी के मंत्रियों ने तोड़ा भरोसा, 10 से अधिक हार गए चुनाव, कहां से किसे मिली शिकस्त?
Krishna Singhभाषा,भोपालSun, 03 Dec 2023 11:48 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में भाजपा को दो तिहाई बहुमत मिल गया है। निर्वाचन आयोग के अनुसार, प्रदेश की 230 विधानसभा सीट में से भाजपा के उम्मीदवार 159 सीट जीत चुके हैं जबकि चार सीटों पर आगे चल रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने अब तक 63 सीट पर जीत दर्ज की है और वह तीन सीटों पर आगे चल रही है। भारत आदिवासी पार्टी ने भी प्रदेश में पहली बार जीत दर्ज कर एक सीट अपने कब्जे में कर ली है। इन तीन दलों के अलावा, कोई भी अन्य दल अपना खाता नहीं खोल सका है। मध्य प्रदेश की 230 सीटों के लिए मतदान 17 नवंबर को हुआ था।

इन चुनावों में भाजपा के नरोत्तम मिश्र समेत शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल के 10 से अधिक मंत्री चुनाव हार गए हैं। निर्वाचन आयोग के अनुसार, प्रदेश की 230 विधानसभा सीट में से भाजपा के उम्मीदवार 159 सीट जीत चुके हैं जबकि चार सीटों पर आगे चल रहे हैं। वहीं कांग्रेस ने अब तक 63 सीट पर जीत दर्ज की है और वह तीन सीटों पर आगे चल रही है।

भाजपा मध्य प्रदेश में सत्ता बरकरार रखने के साथ ही अपने विधायकों की संख्या बढ़ाने में सफल रही। वहीं, शिवराज सिंह चौहान के नेतृत्व वाले मंत्रिमंडल के दस से अधिक मौजूदा मंत्री पराजित हो गए हैं। राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा को कांग्रेस प्रत्याशी राजेंद्र भारती से 7,742 वोटों से हार का सामना करना पड़ा है। जिन अन्य प्रमुख मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा उनमें अटेर से अरविंद भदोरिया, हरदा से कमल पटेल और बालाघाट से गौरीशंकर बिसेन शामिल हैं।

इनके अलावा हारने वाले मंत्रियों में बड़वानी से प्रेम सिंह पटेल, बमोरी से महेंद्र सिंह सिसोदिया, बदनावर से राजवर्धन सिंह दत्तीगांव, ग्वालियर ग्रामीण से भारत सिंह कुशवाह, अमरपाटन से रामखेलावन पटेल, पोहरी से सुरेश धाकड़ और परसवाड़ा से रामकिशोर कावरे शामिल हैं। एक अन्य मंत्री और पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के भतीजे राहुल सिंह लोधी को खरगापुर से हार का सामना करना पड़ा है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें