फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशभोपाल में कोर्ट से सजा सुनते ही दोषी ने किया सुसाइड, नाबालिग लड़की से किया था रेप

भोपाल में कोर्ट से सजा सुनते ही दोषी ने किया सुसाइड, नाबालिग लड़की से किया था रेप

होशंगाबाद के एक गांव के रहने वाले 24 वर्षीय दोषी ने जुलाई 2020 में 17 वर्षीय लड़की का अपहरण किया और उसके साथ बलात्कार किया। उसे 4 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था और हाल ही में जमानत पर रिहा किया गया था।

भोपाल में कोर्ट से सजा सुनते ही दोषी ने किया सुसाइड, नाबालिग लड़की से किया था रेप
Swati Kumariलाइव हिंदुस्तान,भोपालSat, 25 Jun 2022 07:27 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में नाबालिग की किडनैपिंग और रेप के आरोपी ने 20 साल की सजा सुनने के बाद जहर खाकर जान दे दी। शुक्रवार को पुलिस कस्टडी में उसे जेल ले जाया जा रहा था। जेल में दाखिल होने से पहले उसने जहर खा लिया। इलाज के दौरान प्राइवेट अस्पताल में उसकी मौत हो गई।

होशंगाबाद के एक गांव के रहने वाले 24 वर्षीय दोषी ने जुलाई 2020 में 17 वर्षीय लड़की का अपहरण किया और उसके साथ बलात्कार किया। उसे 4 जुलाई को गिरफ्तार किया गया था और हाल ही में जमानत पर रिहा किया गया था। शुक्रवार को विशेष अदालत ने उसे दोषी पाया और दोपहर 2.45 बजे फैसला सुनाते हुए उसे 20 साल के कारावास की सजा सुनाई।

होशंगाबाद के पुलिस उप-मंडल अधिकारी पराग सोनी ने कहा, 'अपराधी को तलाशी लेने के बाद पुलिस हिरासत में ले लिया गया। शाम करीब 4 बजे पुलिस उसे जेल भेजने से पहले मेडिकल जांच के लिए ले जा रही थी। जब उसने उल्टी की शिकायत की। तब उसे निजी अस्पताल ले जाया गया जहां रात करीब नौ बजे उसकी मौत हो गई। घटना के बाद प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट रात करीब 10 बजे अस्पताल पहुंचे। मामले में न्यायिक जांच के आदेश दे दिए गए हैं।'

एसडीओपी सोनी ने कहा, 'उल्टी की शिकायत के बाद अपराधी ने जहर खाने की सूचना दी।' परिवार ने पुलिस पर सुरक्षा में गंभीर चूक का आरोप लगाया। अपराधी के मामा ने कहा, 'अदालत द्वारा उसे कड़ी सजा सुनाए जाने के बाद वह ठीक दिख रहा था और हमें ऊपरी अदालत में जाने के लिए कहा। उसके पास खुद को मारने के लिए कुछ नहीं था।'

उन्होंने कहा, 'यह गंभीर सुरक्षा चूक है। पुलिस ने शाम करीब साढ़े चार बजे हमें घटना की सूचना दी और जब हमने पूछा कि उसे जहर कैसे मिला तो पुलिस कर्मियों को कुछ पता नहीं चला। कम से कम छह पुलिस कर्मियों की सुरक्षा में रहे रेप के एक अपराधी ने कोर्ट में या पुलिस वैन में जहर खा लिया और पुलिस कर्मियों ने नहीं देखा। यह कैसे संभव है।'

अधिवक्ता लखन सिंह भावेदी ने कहा, 'फैसले के बाद आत्महत्या की यह पहली घटना नहीं हो सकती है लेकिन यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि उसने क्या खाया? कैसे और कब? पुलिस इस बारे में इतनी अनभिज्ञ कैसे हो सकती है। होशंगाबाद के पुलिस अधीक्षक गुरुकरण सिंह ने कहा, 'यह जांच का विषय है कि अपराधी को जहर कहां से मिला और उसने इसका सेवन कैसे किया। मामले में न्यायिक जांच के भी आदेश दिए गए हैं।'

epaper