फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशमध्य प्रदेश: कॉन्स्टेबलों का पे ग्रेड बढ़ाने की मांग, पुलिस परिवार बोले- 24 घंटे नौकरी, फिर भी नहीं सरकार का ध्यान

मध्य प्रदेश: कॉन्स्टेबलों का पे ग्रेड बढ़ाने की मांग, पुलिस परिवार बोले- 24 घंटे नौकरी, फिर भी नहीं सरकार का ध्यान

मध्य प्रदेश में कॉन्स्टेबलों का पे ग्रेड बढ़ाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। अब पुलिस परिवार भी मैदान में उतर आए हैं। इन परिवारों ने विरोध जताते हुए कहा कि सरकार 24 घंटे नौकरी कराती है, लेकिन पे ग्रेड...

मध्य प्रदेश: कॉन्स्टेबलों का पे ग्रेड बढ़ाने की मांग, पुलिस परिवार बोले- 24 घंटे नौकरी, फिर भी नहीं सरकार का ध्यान
The Pebble,नई दिल्लीSat, 29 Aug 2020 01:07 PM
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में कॉन्स्टेबलों का पे ग्रेड बढ़ाने की मांग जोर पकड़ने लगी है। अब पुलिस परिवार भी मैदान में उतर आए हैं। इन परिवारों ने विरोध जताते हुए कहा कि सरकार 24 घंटे नौकरी कराती है, लेकिन पे ग्रेड बढ़ाने पर बिल्कुल ध्यान नहीं देती। पुलिस परिवार पे ग्रेड बढ़ाने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान को पत्र लिखने वाले विधायकों की मांग का खुलकर समर्थन कर रहे हैं। उनका कहना है कि यह गंभीर मामला है, क्योंकि मैदानी और जमीनी स्तर पर कॉन्स्टेबल स्तर के कर्मचारी ही कानून और सुरक्षा व्यवस्था की बागडोर संभालते हैं। बीजेपी और कांग्रेस के अलग-अलग 19 विधायकों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान को पत्र लिखकर कॉन्स्टेबल का पे ग्रेड 1900 से 2400 ग्रेड करने की मांग उठाई थी। इन विधायकों का समर्थन पुलिसवालों के परिवार ने भी किया है। 

सरकार को लेना होगा बड़ा फैसला

इस संबंध में पुलिस परिवारों का कहना है कि जब विधायकों को कॉन्स्टेबल की चिंता है तो सरकार को भी अब बड़ा फैसला लेना होगा। पुलिस परिवार बरसों से दूसरे राज्यों की तरह पे ग्रेड बढ़ाने की मांग कर रहे हैं,  लेकिन सरकार ने अब तक कोई ध्यान नहीं दिया है। अब विधायक भी बड़ी संख्या में खुलकर सामने आ रहे हैं। ऐसे में सरकार को इस पर विचार करना चाहिए। 

पुलिसवालों के परिवारों ने यूं बताया दर्द

पुलिस परिवार के सदस्य आशीष झारिया ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा कि उनके भाई क्राइम ब्रांच में पदस्थ हैं और उनका घर से जाने-आने का कोई समय निश्चित नहीं है। कभी-कभी तो उनके भाई घर पर आते ही नहीं हैं। जब पुलिस कॉन्स्टेबल से 12 घंटे से भी ज्यादा घंटे की ड्यूटी ली जा रही है तो पे ग्रेड बढ़ाने में सरकार को दिक्कत क्यों है। दूसरे विभागों से ज्यादा काम पुलिसकर्मी करते हैं। इसी तरह पुलिस परिवार की एक अन्य सदस्य सुनीता साहू का कहना है कि उनके पति थाने में कार्यरत हैं। उनका ड्यूटी पर जाने का समय तो तय है लेकिन उनके आने का कोई समय नहीं है। कोरोना के दौरान कई दिन तक पति घर पर ही नहीं आए। कोई भी मौसम हो उनकी ड्यूटी पर कभी स्टॉप नहीं लगता। सरकार को पुलिस परिवारों का दर्द समझना चाहिए।

70 हजार से ज्यादा कॉन्स्टेबल

मध्यप्रदेश में करीब एक लाख 23 हजार पुलिस फोर्स है। इसमें 70,000 से ज्यादा कांस्टेबल हैं। हालांकि अभी भी 20 हजार पुलिस कर्मियों की कमी है। कॉन्स्टेबल का पे ग्रेड बढ़ाने को लेकर सालों से मांग उठ रही है।  

इन विधायकों ने सबसे पहले लिखा पत्र

कॉन्स्टेबल का पे ग्रेड 1900 से 2400 करने के मांग को लेकर अब तक 19 विधायकों ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान को पत्र लिखकर मांग की हैं। विधायकों ने पत्र लिखा जिसमें राजस्थान में तत्कालीन बढ़े पे ग्रेड वेतनमान का हवाला दिया है। मुख्यमंत्री को सबसे पहले पत्र लिखने वाले विधायकों में राजगढ़ विधायक बापू सिंह तंवर और गुन्नौर जिला पन्ना विधायक शिवदयाल बागरी शामिल थे। उसके बाद से अब तक 19 विधायक पत्र लिख चुके हैं।