फोटो गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ मध्य प्रदेशमध्य प्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ का सदस्यता टारगेट 50 लाख दूर की कौड़ी, तीन दिन बचे, सदस्य दस लाख भी नहीं बने

मध्य प्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ का सदस्यता टारगेट 50 लाख दूर की कौड़ी, तीन दिन बचे, सदस्य दस लाख भी नहीं बने

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सदस्यता का अभियान अंतिम पड़ाव पर है लेकिन कमलनाथ का टारगेट अब तक आए रुझानों से दूर की कौड़ी साबित हो रहा है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब

मध्य प्रदेश कांग्रेस में कमलनाथ का सदस्यता टारगेट 50 लाख दूर की कौड़ी, तीन दिन बचे, सदस्य दस लाख भी नहीं बने
Ravindra Kailasiyaलाइव हिंदुस्तान,भोपालMon, 28 Mar 2022 04:21 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सदस्यता का अभियान अंतिम पड़ाव पर है लेकिन कमलनाथ का टारगेट अब तक आए रुझानों से दूर की कौड़ी साबित हो रहा है। पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में पार्टी के खराब परफार्मेंस का सदस्यता अभियान पर असर साफ दिखाई दे रहा है। आज की स्थिति में पीसीसी के पदाधिकारी जो दावे कर रहे हैं वह कुछ इसी तरह की स्थितियां बता रहे हैं। सदस्यता की अंतिम तारीख को तीन दिन बचे हैं और अभी आंकड़ा दस लाख सदस्य को नहीं छू सका है। 

मध्य प्रदेश कांग्रेस के संगठनात्मक चुनाव चल रहे हैं जिसके लिए सदस्यता अभियान अंतिम दौर में है। इसकी अंतिम तारीख 31 मार्च है और सदस्यता के लिए जो किताबें जिला कांग्रेस कमेेटियां व पदाधिकारी ले गए थे, बहुत कम संख्या में वापस लौटी हैं। एक नवंबर 2021 से यह सदस्यता अभियान चालू हुआ था। प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ने इस बार 50 लाख सदस्य बनाने का टारगेट रखा था जिसे पाने के लिए दो लाख 55 हजार किताबें वितरित की गई थीं। एक किताब में 25 सदस्य बनाए जा सकते हैं और इस हिसाब से सदस्यता टारगेट से करीब 64 लाख सदस्य बन सकते हैं। 

दस लाख का आंकड़ा भी नहीं छू सका अभियान
प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष प्रकाश जैन ने बताया है कि अब तक दो लाख 55 हजार किताबें सदस्यता बनाए जाने के लिए जिला कांग्रेस कमेटियां व पदाधिकारीगण ले गए हैं जिनसे करीब साढ़े नौ लाख सदस्य बना लिए गए हैं। 31 मार्च तक अंतिम तारीख है और अब सदस्य बनाने के बाद कमेटियां व पदाधिकारी धीरे-धीरे पीसीसी में जमा करने आ रहे हैं। जैन ने कहा कि 31 मार्च तक जिला कांग्रेस कमेटियों में अभियान की किताबें जमा होंगी और फिर प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में जमा की जाएंगी। 

सदस्यता को लेकर भ्रामक बयानबाजी
वहीं, कांग्रेस के सदस्यता अभियान के टारगेट को लेकर अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सह प्रभारी सीपी मित्तल भ्रामक बयानबाजी करते देखे गए। शाजापुर में उन्होंने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कहा था कि टारगेट पूरा हो चुका है जबकि पीसीसी को ही कितने सदस्य बने, इसकी सही जानकारी नहीं है। 

कमलनाथ ने फर्जी सदस्य नहीं बनाने की चेतावनी दी थी
गौरतलब है कि पिछले दिनों प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में पीसीसी चीफ कमलनाथ ने जिला अध्यक्षों की बैठक में साफतौर पर कहा था कि सदस्य बनाने में फर्जीवाड़ा नहीं चलेगा। यह भी सामने आया है कि मेम्बरशिप अभियान में डिजिटीलाइजेशन की वजह से टारगेट का आंकड़ा बहुत पीछे छूटने की संभावना है। 

पांच राज्यों में कांग्रेस का खराब परफार्मेंस
मध्य प्रदेश कांग्रेस के सदस्यता अभियान पर उत्तर प्रदेश, उत्तरांखंड, मणिपुर, पंजाबप, गोवा के विधानसभा चुनाव नतीजों का असर भी दिखाई दिया है। इन प्रदेशों में पार्टी का परफार्मेंस बेहद खराब रहा था। 

पिछली बार 20 लाख सदस्य बने थे
यहां बता दें कि पिछली बार 2011 से 2017 के बीच सदस्यता अभियान चला था। उस समय 2017 के सदस्यता अभियान में 20 लाख सदस्य बने थे और यही पार्टी ने टारगेट भी रखा था। 

epaper