फोटो गैलरी

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News मध्य प्रदेशMP में सूपड़ा साफ के बाद कांग्रेस में बवाल, जीतू पटवारी के खिलाफ बगावत

MP में सूपड़ा साफ के बाद कांग्रेस में बवाल, जीतू पटवारी के खिलाफ बगावत

लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में सभी 29 सीटों पर हार के बाद कांग्रेस पार्टी में घमासान मचा हुआ है। कांग्रेस नेता अमिताभ अग्निहोत्री ने प्रदेश अध्यक्ष जीतू पटवारी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

MP में सूपड़ा साफ के बाद कांग्रेस में बवाल, जीतू पटवारी के खिलाफ बगावत
Sudhir Jhaलाइव हिन्दुस्तान,भोपालTue, 18 Jun 2024 06:40 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनाव में मध्य प्रदेश में सभी 29 सीटों पर हार के बाद कांग्रेस पार्टी में घमासान मचा हुआ है। पिछले दिनों जहां अजय सिंह ने कमलनाथ पर सवाल खड़े किए तो अब अमिताभ अग्निहोत्री ने प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष जीतू पटवारी के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए हाईकमान से को लेटर लिखा है। पूर्व प्रवक्ता अग्निहोत्री ने यहां तक कहा है कि यदि पटवारी के हाथ कमान रही तो पार्टी अगली बार 20 विधानसभा सीटों पर भी नहीं जीत पाएगी।

जीतू पटवारी को पद से हटाने की मांग करते हुए कांग्रेस नेता ने पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे और पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी को लेटर लिखा है। अग्निहोत्री ने कहा है कि मध्य प्रदेश में 2018 विधानसभा चुनाव में 40 फीसदी वोट मिले थे, जबकि लोकसभा चुनाव में वोटशेयर 8 फीसदी घटकर 32 फीसदी रह गया। इतने कम समय में आई इस गिरावट की जांच होनी चाहिए।

अग्निहोत्री ने हाई कमान से यह भी कहा है कि 11 सीटों पर कांग्रेस को 4 लाख से अधिक अंतर से हार मिली है। कांग्रेस के विधानसभा में 66 विधायक हैं जिनमें से 50 की सीट पर कांग्रेस पिछड़ गई। सोशल मीडिया पर जारी एक वीडियो में अग्निहोत्री ने अपनी बात को दोहराते हुए कहा है कि यदि जीतू पटवारी अध्यक्ष बने रहे तो 20 सीटों पर भी नहीं जीत पाएंगे। अग्निहोत्री ने कहा, 'चापलूसों और पट्ठो की वजह से चुनाव हारे हैं।'

अमिताभ अग्नहोत्री ने लेटर में लिखा, 'मध्य प्रदेश में निष्ठावान, कर्मठ, जनता से जुड़ाव रखने वाले नेताओं की उपेक्षा की जाती है। मध्य प्रदेश में कांग्रेस पुत्रवाद, परिवारवाद, पट्ठावाद, पूंजीवाद और चापलूसवाद को प्रश्रय दिया जाता है।' अग्निहोत्री ने कहा कि जीतू पटवारी का अपने गृह जिले इंदौर में भी प्रभाव नहीं है। उन्होंने जिस नेता को इंदौर से प्रत्याशी बनाया वह भाजपा में शामिल हो गया, जिसकी वजह से बीजेपी प्रत्याशी को 11 लाख वोटों से जीत मिली। अग्निहोत्री ने पटवारी को अभिमानी बताते हुए लिखा है कि उनकी वजह से कई नेताओं ने पार्टी छोड़ दी है।